Monday, September 11, 2017

मत्तगयन्द सवैया - श्री दुर्गाशंकर इजारदार

 मत्तगयन्द सवैया - श्री दुर्गाशंकर इजारदार

(1)
पाकर के सुन मानुस के तन काबर तैं अति सोचत लाला ।
नाम कमा सुन रे मन मूरख काबर काम करे अति काला ।
राम जपे नइ तैं हर काबर डार रखे हस रे मुँह ताला ।
जावत तोर हिसाब करे यम देखत दौड़त मारत भाला ।

(2)
:मात पिता अपमान करे हस खोजत मान कहाँ अब पाबे ।
मान मिले जग में जब सोचत मात पिता झन तैं बिसराबे ।
कोंख जने उँगली धर रेंगत छोड़ के साथ कहाँ  अब जाबे ।
छाँव करे ममता अँचरा जब दुःख भगा सुख भोर नहाबे ।

(3)
राम के काम करे जग में बजरंग बली तँय नाम धराए ,
लाल धरे हस रूप सदा धर हाथ गदा हनुमंत कहाए,
दूत बने हस राम सिया सुन खोजत रावण धाम जलाए ,
राम सिया गुन गावत गावत लक्ष्मण के तँय जान बचाए ।

(4)
जंगल मा अब मंगल खोजत देख नहीं अब पावस भारी ।
रूख कटे ठुठवा सब होवत काबर जोर चलावत आरी ।
जंगल मा चिमनी बइठे बर आवत कागज हे सरकारी ।
थोकुन सोचव रूख लगालव मेंड़ तरी बखरी अउ बारी ।

(5)
हे गणनायक मोर गजानन हावस तैं सुन भाग विधाता ।
सेवक मैं अउ मालिक तैं अस भावत हावय सुग्घर नाता ।
चार भुजा मन मोहत हावय दुःख हरे सुख देथस दाता ।
शंकर हावय तोर ददा अउ पारवती सुन हावय माता ।

(6)
 नाम अनेक धरे जग तारण रूप अनंत धरे बनवारी ।
मोहन माधव केशव निर्गुण हे मुरली धर हे त्रिपुरारी ।
हे अचला अजया अनया बलि कृष्ण दयानिधि पुण्य मुरारी ।
श्याम सुदर्शन विष्णु निरंजन हे मधुसूदन हे सुख कारी ।।

रचनाकार - श्री दुर्गाशंकर इजारदार
सारंगढ़, छत्तीसगढ़ 

16 comments:

  1. वाह्ह् वाह्ह् दुर्गा भैया बहुत सुन्दर सुन्दर मत्तगयंद सवैया छंद के सृजन करे हव।बधाई।

    ReplyDelete
  2. बहुत सुग्घर सृजन सर।सादर बधाई

    ReplyDelete
  3. बहुत बढ़िया सृजन हे दुर्गा भाई
    बहुत बहुत बधाई

    ReplyDelete
  4. बहुतेच सुग्घर सवैया के सिरजन करे हव दुर्गा भाई जी।बहुत बहुत बधाई ।

    ReplyDelete
  5. बहुत सुग्घर मत्तगयंद सवैया लिखे हव ,दुर्गाशंकर भैया। बधाई अउ शुभकामना।

    ReplyDelete
  6. बहुत सुग्घर मत्तगयंद सवैया लिखे हव ,दुर्गाशंकर भैया। बधाई अउ शुभकामना।

    ReplyDelete
  7. बड़ सुग्घर मत्तगयंद सवैया सर जी।

    ReplyDelete
  8. बढ़िया दुर्गा भैया

    ReplyDelete
  9. बढ़िया दुर्गा भैया

    ReplyDelete
  10. बहुत ही सुंदर ....जम्मो एक से बढ़के एक हावे....गाड़ा गाड़ा बधाई भाई ज्ञानू...
    सादर सहृदय बधाई आपो मन ला...।

    ReplyDelete
  11. गुरुदेव संग आप सबो ला हृदय से धन्यवाद सादर प्रणाम

    ReplyDelete
  12. दुर्गा भईया बधाई रचना बर

    ReplyDelete
  13. दुर्गा भईया बधाई रचना बर

    ReplyDelete