Wednesday, September 13, 2017

रूपमाला छन्द - श्री हेमलाल साहू

रूपमाला छन्द - श्री हेमलाल साहू
(1)
मोर माटी मोर दाई, तँय रखै हस नेम।
मोर जिनगी तोर कोरा, हे बसे हर टेम।।
तोर सेवा करवँ दाई, परन करथंव हेम।
मोर जिनगी हवै अरपन, राखबे तँय प्रेम।।

(2)
राख सबसे प्रेम संगी, छोड़ तँय अभिमान।
पेर जाँगर तैं सदा दिन , तोर  बाढ़य शान।
सीख लेवव बने संगी, करव मन मा ध्यान।
मेहनत बिन कोन पाथे, ये जगत मा ज्ञान।

(3)
समय भागे देख पल्ला, रुक कभू नइ पाय।
काल ककरो आय संगी,  ये कहाँ  छेंकाय।
छोड़ चिंता अपन फल के, बने जाँगर पेर।
मेहनत मा भाग्य बनथे, समय के हे फेर।

रचनाकार - श्री हेमलाल साहू
ग्राम गिधवा, छत्तीसगढ़

28 comments:

  1. भाई हेम बहुत सुघ्घर रूपमाला छंद हे
    दिनों दिन अइसने आगे बढ़त रह भाई ।
    बहुत बहुत बधाई

    ReplyDelete
    Replies
    1. दीदी अंतस ले आभार
      आप सबके आशीष मोर मा ऊर्जा भरथे।

      Delete
  2. हेम भइया सुग्घर छन्द
    वाह्ह्ह्ह्ह्

    ReplyDelete
    Replies
    1. दुर्गा भैया सादर धन्यवाद

      Delete
  3. वाह्ह हेम भैया,बहुत सुग्घर रूपमाला छंद। बधाई अउ शुभकामना।

    ReplyDelete
    Replies
    1. मोहन भैया सादर धन्यवाद

      Delete
  4. वाह्ह हेम भैया,बहुत सुग्घर रूपमाला छंद। बधाई अउ शुभकामना।

    ReplyDelete
  5. बहुत सुंदर रूपमाला के सिरजन करे हव हेम भाई।बधाई।

    ReplyDelete
    Replies
    1. भैया जी सादर धन्यवाद

      Delete
  6. बहुत सुंदर रूपमाला के सिरजन करे हव हेम भाई।बधाई।

    ReplyDelete
  7. बहुँत बढ़िया हेम लाल भईया जी

    ReplyDelete
    Replies
    1. जोगी भैया अंतस ले आभार

      Delete
  8. बहुँत बढ़िया हेम लाल भईया जी

    ReplyDelete
  9. बहुत ही बढ़िया हेम भाई

    ReplyDelete
    Replies
    1. वर्मा भैया सादर धन्यवाद

      Delete
  10. बहुत सुग्घर रचना सर।सादर बधाई

    ReplyDelete
  11. बहुत सुग्घर रचना सर।सादर बधाई

    ReplyDelete
    Replies
    1. ज्ञानु भाई सादर धन्यवाद

      Delete
  12. सुग्घर सार छ्न्द बर बधाई हेम भाई

    ReplyDelete
  13. सुग्घर सार छ्न्द बर बधाई हेम भाई

    ReplyDelete
    Replies
    1. अजय भैया अंतस आभार

      Delete
  14. Replies
    1. This comment has been removed by the author.

      Delete
    2. अंतस ले धन्यवाद भैया जी

      Delete
  15. वाह्ह्ह् वाह्ह्ह् बधाई हेम भाई।रूपमाला छन्द के शानदार छटा हे।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बादल भैया मया दया के संग अंतस ले आभार

      Delete
  16. छंद रूपमाला कहौं, निखरे रचना रूप।
    हेमभाइ के प्रेम के,बिखरे भाव अनूप।।

    बहुत बहुत बधाई भाई हेम....

    ReplyDelete
    Replies
    1. गुप्ता भैया के हवै, आशीष सदा साथ।
      दाई सारद ज्ञान दे,चरण नवाँव ग माथ।।

      भैया गुप्ता...........दया मया के संग अंतस आभार

      Delete