Tuesday, November 14, 2017

चौपई छन्द - श्री दुर्गाशंकर इजारदार

बेटी के कतको अवतार ,
झन कर जी तँय अत्याचार ,
बेटी बहनी दाई जान ,
अउ जीवन के साथी मान ।

नारी बिन तो  जग अँधियार
रुक जाही जीवन संचार ,
कहना ला तँय मोरे मान ,
नारी हे जीवन के खान ।

आग दहिज मा झन तँय झोंक ,
बेटी नइये माथा  ठोंक ,
भाग धइन घर बेटी आय ,
सात जनम ओकर बन जाय ।

रचनाकार -  श्री दुर्गाशंकर इजारदार
सारंगढ़, छत्तीसगढ़ 

15 comments:

  1. Replies
    1. सादर जय जोहार भइया , धन्यवाद

      Delete
  2. बहुत सुंदर भैया आपला बधाई

    ReplyDelete
  3. बहुत सुग्घर रचना सर।सादर बधाई

    ReplyDelete
  4. बहुत सुग्घर रचना सर।सादर बधाई

    ReplyDelete
  5. बहुत सुघ्घर भैया

    ReplyDelete
  6. बढ़िया उन्नति की ओर छंद सृजन हे भाई दुर्गा
    बधाई हो

    ReplyDelete
  7. बहुत सुग्घर चौपई छंद के रचना करे हव भैया जी।बधाई अउ शुभकामना।

    ReplyDelete
  8. सुग्घर चौपई छंद।

    ReplyDelete
  9. बढ़ियाँ चौपई छंद लिखे हव दुर्गाशंकर भाई बधाई

    ReplyDelete
  10. सुग्हर - चौपाई रचय, दुर्गा भाई मोर
    धीरे बानी चल बने,बाडै जस हर तोर।

    ReplyDelete
  11. वाह! दुर्गा भाई बढिया चौपाई छंद

    ReplyDelete