Saturday, February 10, 2018

सार छन्द - श्री मोहन कुमार निषाद

बेटी - बहू

देवव बेटी ला दुलार जी , बन्द करव ये हत्या ।
जीयन दव अब बेटी मन ला , राखव मनमा सत्या ।

बेटी होही आज तभे जी ,  बहू अपन बर पाहू ।
बेटा कस जी मान देय ले , जग मा नाम कमाहू ।

करव भेद झन इन दूनो मा , एक बरोबर जानव ।
बेटी जइसे लक्ष्मीरूपा , अपन बहू ला मानव ।

छोड़व अब लालच के रद्दा , झन दहेज ला लेवव ।
बन्द होय गा गलत रीति सब , शिक्षा अइसे देवव ।

मारव झन कोनो बेटी ला , जग मा  जब वो आही ।
हाँसत खेलत घर अँगना मा , जिनगी अपन बिताही ।

होवय बंद भ्रूण के हत्या , परन सबे जी ठानव ।
बेटी बिन जिनगी हे सुन्ना , बेटा इन ला मानव ।।

रचनाकार - श्री मोहन कुमार निषाद
ग्राम - लमती, भाटापारा, छत्तीसगढ़

11 comments:

  1. सार छंद मा बढ़िया संदेश देवत रचना

    ReplyDelete
  2. बहुत बढ़िया सार छंद भईया जी

    ReplyDelete
  3. बहुत बढ़िया सार छंद भईया जी

    ReplyDelete
  4. छत्तीसगढिया - सब ले बढिया, नोनी के मरना ए
    सज्जनता हर कमजोरी ए, शकुन भलुक गहना ए।

    ReplyDelete
  5. सुग्घर सार सिरजाय हव भाई।बधाई।

    ReplyDelete
  6. वाह्ह संदेश प्रधान सुन्दर सार।

    ReplyDelete
  7. बहुत बहुत सुघ्घऱ सर जी

    ReplyDelete
  8. बहुत बढ़िया सृजन हे भाई

    ReplyDelete
  9. बहुत सुग्घर सृजन सर।सादर बधाई

    ReplyDelete
  10. बहुत सुग्घर सृजन सर।सादर बधाई

    ReplyDelete
  11. बहुत शानदार सार छंद के सृजन करे हव भाई। बधाई अउ शुभकामना।

    ReplyDelete