Tuesday, February 13, 2018

हरिगीतिका छन्द - श्रीमती आशा देशमुख

प्रेम के पीरा

(1)
पुरखा बनाये रीत ला ,बिधना धराये मीत ला |
खाई बड़े छोटे अबड़,कइसे निभाये प्रीत ला |
बोली भुलागे मान ला ,मनखे भुलागे दान ला |
चारो डहर स्वारथ भरे ,कुचलत हवे सम्मान ला |
(2)
बेड़ी बँधाए जात के ,अंतस पुकारत हे मया |
कइसे छुड़ावव गांठ ला ,करदे विधाता तैँ दया |
पीरा सुनावव कोन ला ,बदनाम दुनियाँ हा करे |
गहरा अबड़ हे घाव हा ,सब झन जहर महुरा धरे |
(3)
रद्दा कठिन हे प्रेम के ,कांटा गड़े हे पाँव मा |
रोवत हवे अंतस घलो ,नइहे ठिकाना छाँव मा |
नइहे मया बर ठौर अब ,छाये गरब के राज हे |
बोली तको अब ठाड़ हे ,जइसे गिराये गाज हे |
(4)
ताना कसे संसार हा ,जिनगी लगे हे पाप कस |
एके सबो मनखे हवे ,ये जात बनगे श्राप कस |
कोनो बता दे आज गा ,हावय धरम का भात के |
का रंग के हावय हवा ,पानी हवय का जात के |
(5)
दिन रात सिसके हे मया ,बोली मिले अपमान के |
जाबे चिरैया तैं कहाँ ,भूखा हवय जग प्रान के |
आँसू भरे आंखी हवय ,दिन रात जोहय मीत ला |
बैरी बने जग प्रेम के ,कइसे बचावव प्रीत ला |
(6)
चारो डहर अँधियार हे ,उगलत हवय हर झन धुआँ |
रद्दा घलो सूझय नही ,खाई हवे या हे कुआँ |
भीतर झँकैया कोन हे ,चारो मुड़ा बीरान हे |
बस मन निहारे प्रीत ला ,एके लगन के ध्यान हे |
(7)
मन हा पुकारे मोहना ,बंशी बजादे प्रीत के |
हर गाँव वृन्दावन बने ,बोली ठिठोली गीत के |
तोरे रचे संसार हे ,रखदे मया के मान ला |
बस एक तोरे आसरा ,अब का कहव भगवान ला |

रचनाकार - श्रीमती आशा देशमुख
एन टी पी सी जमनीपाली
कोरबा, छत्तीसगढ़ 

23 comments:

  1. बहुत सुघ्घर छंद दीदी जी
    बहुत बहुत बधाई

    ReplyDelete
    Replies
    1. सादर आभार भाई महेंद्र

      Delete
  2. जब - जानथे मनखे तभे, उद्धार के मग - दीखथे
    सब सोच के सच जान के, पहिचान के मन सीखथे।
    धर धीर तयँ अब मान ले, निज देश के धुन पाग रे
    पथ पा बने अब ग्यान के, सम भाव के बन राग रे।

    ReplyDelete
    Replies
    1. सादर आभार नमन दीदी जी

      Delete
  3. वाह वाह बहुत ही शानदार हरिगीतिका के सृजन करे हव आशा देशमुख बहिनी जी। हार्दिक बधाई।

    ReplyDelete
    Replies
    1. सादर आभार नमन भैया जी

      Delete
  4. वाहहहह मधुर भाव, श्रृंगार रस मा सुन्दर हरिगितिका छंद

    ReplyDelete
    Replies
    1. सादर आभार नमन भैया जी

      Delete
  5. कालजयी हरिगीतिका आशा दीदी

    ReplyDelete
    Replies
    1. सादर आभार भाई अजय

      Delete
  6. कालजयी हरिगीतिका आशा दीदी

    ReplyDelete
  7. वाह वाह दीदी अद्भुत,बेहतरीन

    ReplyDelete
    Replies
    1. सादर आभार भाई जितेंन्द्र

      Delete
  8. बहुत सुघ्घर दीदी जी

    ReplyDelete
    Replies
    1. सादर आभार भाई आसकरण

      Delete
  9. हरिगीतिका छंद मा सुघ्घर लेखनी आशा बहिनी बहुत बहुत बधाई

    ReplyDelete
    Replies
    1. सादर आभार दीदी

      Delete
    2. बेहतरीन हरिगीतिका छंद में रचना दीदी।सादर बधाई

      Delete
    3. बेहतरीन हरिगीतिका छंद में रचना दीदी।सादर बधाई

      Delete
    4. सादर आभार भाई ज्ञानु

      Delete
  10. प्रेम के पीरा के बेहतरीन वर्णन हरिगीतिका छंद मा करे हव ,दीदी। बधाई अउ शुभकामना।

    ReplyDelete
    Replies
    1. सादर आभार भाई मोहन

      Delete
    2. सादर आभार मोहन भाई

      Delete