Thursday, March 8, 2018

आल्हा छंद श्री मोहन कुमार निषाद

बैरी लाहो झनले

हमर मितानी देखत बैरी , हमला झन समझव कमजोर ।
भारत माँ के बेटा अन हम , निछ देबो खर्री ला तोर ।

हितवा मनके संगी हन हम , बैरी मनबर सउहत काल ।
जादा लाहो झन लेबे तँय , वीर हवन हम माँ के लाल ।

आघू आघू ले तँय बैरी , फोकट मा रे झन फुफकार ।
जाग जही जब हमर देश हर , देही तोला तुरते मार ।।

डरके मारे काँपत काँपत , रोवत रहिथे तोर जवान ।
आन मान बर हम लड़ जाथन , सीमा मा सीना ला तान ।।

कतको तोला हन समझाये , समझ तोर नइ आवय बात ।
भूत असन हावस तँय हर रे , पड़ही कोर्रा जूता लात ।।

फेर कहूँ तँय आबे बैरी , नइ बाचय अब तोर परान ।
परन करे हँन हम सब मिलके , सदा करत रहिबो गुणगान ।।

       
  रचनाकार  मोहन कुमार निषाद
   लमती भाटापारा छत्तीसगढ़

9 comments:

  1. बहुत बढ़िया आल्हा छंद
    भाई मोहन

    ReplyDelete
  2. शानदार आल्हा मोहन भाई

    ReplyDelete
  3. देशभक्ति भाव ले भरे बढ़िया आल्हा मोहन भाई

    ReplyDelete
  4. देशभक्ति भाव ले भरे बढ़िया आल्हा मोहन भाई

    ReplyDelete
  5. मोहन आल्हा - हर सुग्हर हे, पर - गारी ला दे शालीन
    अपन देश बर मर मिट जाबो,सज्जन हावन नइ अन दीन।

    ReplyDelete
  6. बहुत सुग्घर अउ लाजवाब आल्हा छंद हे भाई। बधाई अउ शुभकामना।

    ReplyDelete
  7. वाह वाह बहुत खूब भैया

    ReplyDelete
  8. शानदार आल्हा छंद मा रचना भाईजी।सादर बधाई

    ReplyDelete
  9. शानदार आल्हा छंद मा रचना भाईजी।सादर बधाई

    ReplyDelete