Monday, March 12, 2018

हरिगीतिका छंद - श्री जीतेन्द्र वर्मा"खैरझिटिया

सत उपदेश

किरपा करे कोनो नही,बिन काम होवै नाम ना।
बूता  घलो  होवै  बने,गिनहा मिले जी दाम ना।
चोरी  धरे  धन  नइ पुरे,चाँउर  पुरे  ना दार जी।
महिनत म लक्ष्मी हा बसे,देखौ पछीना गार जी।

संगी  रखव  दरपन  सहीं,जेहर दिखावय दाग ला।
गुणगान कर धन झन लुटै,धूकै हवा झन आग ला।
बैरी  बनावौ  मत  कभू,राखौ  मया नित खाप के।
रद्दा बने चुन के चलौ,अड़चन ल पहिली भाँप के।

सम्मान दौ सम्मान लौ,सब फल मिले इहि लोक मा।
आना  लगे  जाना लगे,जादा  रहव   झन  शोक मा।
सतकाम बर आघू बढ़व,संसो फिकर  ला छोड़ के।
आँखी उघारे नित रहव, कतको खिंचइया गोड़ के।

बानी   बनाके  राखथे ,नित  मीठ  बोलव  बोल गा।
अपने खुशी मा हो बिधुन,ठोंकव न जादा ढोल गा।
चारी   करे   चुगली   करे ,आये   नही  कुछु  हाथ  मा।
सत आस धर सपना ल गढ़,तब ताज सजही माथ मा।

पइसा रखे  कौड़ी  रखे,सँग  मा रखे नइ ग्यान गा।
रण बर चले धर फोकटे,तलवार ला तज म्यान गा।
चाटी  हवे   माछी  हवे , हाथी  हवे  संसार  मा।
मनखे असन बनके रहव,घूँचव न पाछू हार मा।

रचनाकार - श्री जीतेन्द्र वर्मा"खैरझिटिया"
बाल्को(कोरबा) छत्तीसगढ़

10 comments:

  1. बहुत बढ़िया हरिगीतिका भईया जी बधाई हो

    ReplyDelete
  2. बहुत बढ़िया रचना भैया जी
    गाड़ा गाड़ा बधाई हो ।

    ReplyDelete
  3. वाहःहः जितेंन्द्र भाई
    लाजवाब हरिगीतिका छंद
    बधाई हो

    ReplyDelete
  4. परम पूज्य गुरुदेव सँग आप सबो ल सादर प्रणाम

    ReplyDelete
  5. वाह वाह जीतेन्द्र भैया। गजब के हरिगीतिका छंद हे। सादर प्रणाम अउ शुभकामना।

    ReplyDelete
  6. हरिगीतिका धर पीठिका, कइसे लिखौं शुभ छंद ला
    भर भावना शुभ कामना, मन मा गुनौ आनंद ला।

    ReplyDelete
  7. बहुत सुग्घर हरिगीतिका छंद मा रचना सर।सादर बधाई

    ReplyDelete
  8. बहुत सुग्घर हरिगीतिका छंद मा रचना सर।सादर बधाई

    ReplyDelete
  9. बहुत बढ़िया भइया जी

    ReplyDelete
  10. बहुत बढ़िया भइया जी

    ReplyDelete