Saturday, May 12, 2018

चौपइया छन्द - श्री रमेश कुमार सिंह चौहान

चल तरिया जाबो, खूब नहाबो, तउड-तउड़ के संगी ।
खूब मजा पाबो, दम देखाबो, नो हय काम लफंगी ।।
तउड़े ले होथे, काया पोठे, तबियत सुग्घर रहिथे ।
पाछू सुख पाथे, तउड़ नहाथे, आज झेल जे सहिथे ।।

जब तरिया जाबे, संगी पाबे, चार गोठ बतियाबे ।
गोठ गोठियाबे, मया बढ़ाबे, पीरा अपन सुनाबे ।।
दूसर के पीरा, सुनबे हीरा, मनखे बने कहाबे ।
घर छोड़ नहानी, करत सियानी, तरिया जभे नहाबे ।।

हे लाख फायदा, देख कायदा, धरती बर तरिया के ।
धरती के पानी, धरे जवानी, बड़ झूमे छरिया के ।।
पानी के केबल, वाटर लेबल, तरिया बने बनाथे ।
बाते ला मानव, ये गुण जानव, कहिदव तरिया भाथे ।।

रचनाकार - श्री रमेश कुमार सिंह चौहान
नवागढ़ (बेमेतरा) छत्तीसगढ़ 

2 comments:

  1. चौपइया छंद मा बेहतरीन वर्णन चौहान जी।सादर प्रणाम अउ बधाई।

    ReplyDelete
  2. बहुत बढ़िया रचना बधाई हो चौहान जी

    ReplyDelete