Wednesday, August 8, 2018

चौपई छन्द - - श्री जीतेंद्र वर्मा"खैरझिटिया"



जयकारी (चौपई) छंद - पेट

पेट देख के होवय गोठ,कखरो पातर कखरो मोठ।
देख पेट ला जाबे जान,कोन सेठ मजदूर किसान।1।

पेट करावय करम हजार,कोनो खावय दर-दर मार।
नाचा गम्मत होय व्यपार,सजे पेट बर हाट बाजार।2।

पेट पालथे कोनो हाँस,कोनो ला गड़ जाथे फाँस।
धरे पेट बर कोनो तीर,ता कोनो बन जावय वीर।3।

मचे पेट बर कतको रार,कोनो बेंचें खेती खार।
पेट पलायन कभू कराय,गाँव ठाँव सबला छोड़ाय।4।

नाप नाप के कोनो पेट,खान पान ला करे ग सेट।
कोनो भूख मा पेट ठठाय,कोनो खा पी के अँटियाय।5।

कखरो पेट ल भाये नून,कोनो पी जावय गा खून।
कोनो खोजे मँदिरा माँस,पेट फुलावय कोनो हाँस।6।

पेट भरे तब लालच आय,धन दौलत मनखे सिरजाय।
पेट जानवर के दमदार,तभो धरे नइ चाँउर यार।7।

बित्ता भर वाले ला देख,रटे पेट ताकय कर रेख।
रखे पेट खातिर धन जोर,कतको मन बन जावय चोर।8।

ऊँच नीच जब खाना होय,पचे नहीं बीमारी बोय।
पेट पीरा हर लेवय चैन,पेट कभू बरसावय नैन।9।

लाँघन ला दौ दाना दान,पेट हरे सबझन के जान।
दाना चाही दूनो जून,पेट भरे ता मिले सुकून।10।

ढोंगी अधमी पावै दुःख, मरे पेट ओ मन के भूख।
करे जउन मन हा सतकाम,पेट भरे वो सबके राम।11।

छन्दकार - श्री जीतेंद्र वर्मा"खैरझिटिया"
बाल्को(कोरबा)

42 comments:

  1. सादर नमन गुरुदेव

    ReplyDelete
  2. वाहःहः भाई जितेंन्द्र
    बढ़िया चौपई छंद सिरजाय हव।
    बहुत बहुत बधाई

    ReplyDelete
    Replies
    1. सधन्यवाद दीदी

      Delete
    2. छंदकार के ऐकैच पहचान जितेंद्र भैया हे ओकर नाम

      Delete
  3. बड़ सुघ्घर कविवर महोदय

    ReplyDelete
  4. Replies
    1. कृपया अपने प्रोफाइल मा अपन नाम लिख लेवव। unknown लिखाय आवत हे त पता नइ चलत हे कि आप कोन हव।

      Delete
    2. धन्यवाद सर जी

      Delete
  5. वाहहहह जबरदस्त रचना वर्मा जी पेट तो पेट होथे फेर पेट ल देख कर्म बताय के बने अध्ययन करे हव।बधाई

    ReplyDelete
  6. वाह वाह बहुत बढ़िया।

    ReplyDelete
  7. Replies
    1. सधन्यवाद सर जी

      Delete
    2. कृपया अपने प्रोफाइल मा अपन नाम लिख लेवव। unknown लिखाय आवत हे त पता नइ चलत हे कि आप कोन हव।

      Delete
  8. बहुत बढ़िया रचना भइया जी बधाई हो

    ReplyDelete
  9. बड़ सुघ्घर चौपई जितेन्द्र बधाई हो

    ReplyDelete
  10. Replies
    1. सधन्यवाद सर जी

      Delete
    2. सादर सधन्यवाद

      Delete
  11. वाहहह वाहहह सर बहुत सुन्दर जयकारी छंद।

    ReplyDelete
  12. सधन्यवाद भैया जी

    ReplyDelete
  13. वाह वाह उम्दा चौपई छंद।हार्दिक बधाई।

    ReplyDelete
  14. सादर नमन सर जी

    ReplyDelete
  15. अनंत बधाई गुरुजी💐💐👌

    ReplyDelete
  16. बहुत सुंदर वर्मा भैया

    ReplyDelete
  17. अनुपम कृति सर

    ReplyDelete
  18. पेट विषय मा शानदार चौपई छंद ।सादर बधाई भैया जी

    ReplyDelete
  19. गजब के रचना गुरुदेव

    ReplyDelete
  20. आप के रचना ला पढ़ सुन के हिरदे गदगद हो जथे वर्मा जी बहुत बहुत बधाई - - - - - - -!

    ReplyDelete