Saturday, September 7, 2019

जलहरण घनाक्षरी - अरुण कुमार निगम







"चंद्रयान - 2 अभियान"

"चंद्रयान - दू" मितान ! फेल नइ अभियान
मामी तिजहारिन ला, ममा गिस लाने बर।
जा के ससुरार पारा, ममा बपुरा बिचारा
सारा-सारी के अरज, पड़ गिस माने बर।
सास बनाए सोंहारी, तसमई राँधे सारी
ठेठरी-खुरमी मामी, भिड़ गिन छाने बर।
इही पाय के विक्रम, भाँचा ह भटक गिस
फेर जाही ममा घर, तिरंगा ला ताने बर।।

- अरुण कुमार निगम
आदित्य नगर, दुर्ग, छत्तीसगढ़

3 comments:

  1. वाहहहहहहह!वाहहहह!गुरुदेव

    ReplyDelete
  2. वाह्ह्ह शानदार गुरुदेव

    ReplyDelete