Friday, August 3, 2018

शकुन्तला शर्मा - आल्हा छंद


जीव जगत कतका अचरज हे, कतका सुग्हर हे दिन रात 
कतका सुग्हर केशर रज हे, मनभावन रिमझिम बरसात।

मनखे मन बर हे सुख साधन, कर्म नाव के हे तलवार
नीति नेम के हावै बंधन,भगवत महिमा अपरंपार।

कर्म बनै सुख दुख के कारण, काला देबे तयँ हर दोष 
झन कर अधम कर्म कर बारन, तोला मिल जाही संतोष।

भाव घला सुख दुख ला देथे, कर्म भाव के बनय मितान
भाव कर्म ला बहुत बिटोथे, भावे मा बसथे भगवान।

भाव भावना उज्जर राखव, एही करही बेडा पार 
पलपल अंतर्मन मा झाँकव,जानौ ए जीवन के सार।

बडे भाग ले तैंहर पाए, मनखे के चोला अनमोल
कर्म धर्म के महिमा गाए, आज कर्म के गठरी खोल।

सबके हित के बात करौ अब, खुद जानौ जस के दस द्वार 
एक संग मिलके रेंगव सब, हर मुश्किल के पाहव पार।

जिहाँ समस्या समाधान हे, सूझ बूझ मा हे कल्यान 
जिहाँ धरा हे आसमान हे, खोज खोज के तैंहर जान।

 छन्दकार - शकुन्तला शर्मा, भिलाई, छत्तीसगढ़

25 comments:

  1. बड़ सुघ्घर आल्हा छंद हे दीदी!!

    ReplyDelete
  2. बड़ सुघ्घर आल्हा छंद हे दीदी!!

    ReplyDelete
  3. वाह्ह् सुग्घर आल्हा छंद दीदी !!!!!!

    ReplyDelete
  4. वाहःहः दीदी
    बहुत सुघ्घर आल्हा

    ReplyDelete
  5. बहुत बढ़िया दीदी बधाई हो।

    ReplyDelete
  6. बहुत सुग्घर दीदी जी

    ReplyDelete
  7. बहुत सुग्घर दीदी जी

    ReplyDelete
  8. सुग्घर आल्हा छंद मैडम जी👌💐

    ReplyDelete
  9. वाहह वाहह सुन्दर आल्हा छंद दीदी।

    ReplyDelete
  10. आल्हा छंद मा अनुपम रचना ,दीदी। सादर प्रणाम अउ बधाई।

    ReplyDelete
  11. बढ़िया आल्हा बधाई हो दीदी जी

    ReplyDelete
  12. बहुतेच सुघ्घर आल्हा दीदी।

    ReplyDelete
  13. वाह वाह सुग्घर भाव भरे आल्हा छंद हे दीदी।सादर प्रणाम।

    ReplyDelete
  14. धरम करम के महिमा के तो, होए हावय बने बखान।
    गुरतुर बोली हमर राज के, पावय अइसनहे सन्मान।।
    सादर प्रणाम सहित दीदी पोठ रचना बर गाड़ा गाड़ा बधाई....

    ReplyDelete
  15. बहुत बढ़िया आल्हा छंद दीदी जी
    बहुत बहुत बधाई

    ReplyDelete
  16. सब्बो झन ला देवत हाववँ, मयँ हर सुग्हर आशीर्वाद
    करव तपस्या पाहव बढ़िया, छंद नेह बर अद्भुत खाद।

    ReplyDelete
    Replies
    1. सादर प्रणाम दीदी...
      गुरुवर के रद्दा बतई अउ दीदी के आशीर्वाद ही हर खाद ए.....
      रेंग के अउ अभ्यास के बाद जऊन लिखाही ओकरे चटपटा स्वाद ए..सादर
      __/\__

      Delete
  17. वाहहहह ,बहुँत सुग्घर रचे हव दीदी।प्रणाम।

    ReplyDelete
  18. बहुत सुंदर रचना दीदी

    ReplyDelete
  19. बहुत सुंदर रचना दीदी

    ReplyDelete
  20. बहुत सुंदर आल्हा छंद दीदी

    ReplyDelete
  21. बहुत सुंदर आल्हा छंद दीदी

    ReplyDelete
  22. दीदी सादर प्रणाम। शानदार आल्हा छंद।हार्दिक बधाई।

    ReplyDelete
  23. आदरणीया मैडम जी ला सुग्घर आल्हा छंद बर अनंत बधाई💐💐

    ReplyDelete
  24. बहुत सुन्दर दीदी जी

    ReplyDelete