Sunday, August 19, 2018

लावणी छन्द - श्री अजय अमृतांशु




रक्तदान - महादान

रक्तदान करके संगी हो,ककरो प्राण बचावा जी।
दान हवय ये सबले बढ़ के,सब ला बात बतावा जी।1

रक्तदान ईश्वर के पूजा,बात सबो झन जानव गा।
सेवा सबले बढ़ के येहा,बात तुमन ये मानव गा।2

पइसा मा जब खून मिलय ना,उही समय सब पछताथे।
जिनगी अधर म लटके रहिथे,तब ये बात समझ पाथे।3

खून बनय ना लेब म संगी,कीमत येकर जानव जी।
येहा केवल देह म बनथे,येला सब झन मानव जी।4

रक्तदान कमजोरी लाथे,भरम भूत तुम झन पालव।
खून साफ होथे येकर ले,मन मा येला बइठालव।5

कभू परय नइ दिल के दौरा,रक्तदान के गुन भारी। बी.पी.लेबल स्थिर रहिथे जी,बात बने हे सँगवारी।6

वजन घलो नइ बाढ़य संगी,मोटापा होथे जी कम।
मंत्र हवय ये स्वस्थ रहे के,रक्तदान मा काबर गम।7

रक्तदान ले बढ़ के भैया,दुसर दान नइ होवै गा।
पीरा हरथे जेन दुसर के, तेन कभू नइ रोवै गा।8

छन्दकार - श्री अजय अमृतांशु
भाटापारा, छत्तीसगढ़

41 comments:

  1. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  2. वाह वाह, रक्त दान के लाभ बतावत सुघ्घर रचना भइया जी।

    ReplyDelete
  3. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  4. रक्त दान के बने महत्तम आप इहाँ समझाये हौ।
    रक्तदान तो महादान ए, एला बने बताये हौ।।
    चेत लगा के समझँय प्रानी, नइ होवय काँही जानौ।
    बचय प्रान ककरो तौ भाई, उंखर दुआ लगय मानौ।।
    बहुत सुंदर भाई अजय...

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक आभार बड़े भैया

      Delete
  5. बहुत बढ़िया सन्देश आदरणीय।आज समय के मांग हे हर आदमी ला रक्तदान करना चाहिए। बहुत सुंदर भाव हे।

    ReplyDelete
  6. ,बढ़िया संदेश देवत सुग्घर रचना भइया जी

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद दुर्गा भैया

      Delete
  7. वाहःहः अजय भाई
    बहुत सुंदर जनजागरण विषय म सृजन करे हव।

    बहुत बहुत बधाई

    ReplyDelete
  8. बहुत शानदार रचना सर

    ReplyDelete
  9. बहुत शानदार रचना सर

    ReplyDelete
    Replies
    1. नमस्कार ज्ञानू भैया

      Delete
    2. नमस्कार ज्ञानू भैया

      Delete
  10. बहुत बढ़िया रचना बधाई हो

    ReplyDelete
  11. बहुत खूब भैया

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक आभार जितेंद्र भाई

      Delete
    2. हार्दिक आभार जितेंद्र भाई

      Delete
  12. वाहहहह वाहह बहुत शानदार छंद रचना अमृतांशु सर।

    ReplyDelete
  13. रक्तदान बर प्रेरित करत सुग्घर लावणी छंद,भैया। सादर बधाई

    ReplyDelete
  14. रक्त दान महादान
    बहुत बढ़िया रचना भैया जी
    बहुत बहुत बधाई हो

    ReplyDelete
  15. बहुत बढ़िया सामाजिक संदेश ।अजय साहू जी।

    ReplyDelete
  16. सुग्घर आह्वान करत छंद रचे हव सरजी।बधाई।

    ReplyDelete
  17. वाह गुरुदेव जी बहुत बहुत बधाई हो

    ReplyDelete
  18. रक्तदान। महादान।।
    बड़ सुग्घर भइया जी

    ReplyDelete
  19. रक्तदान। महादान।।
    बड़ सुग्घर भइया जी

    ReplyDelete