Thursday, August 2, 2018

ताटंक छंद-श्री असकरन दास जोगी


मनखे-मनखे एक बरोबर,जोहन कब समता आही |
खेलत हें समरसता कहिके,अब कब मानवता छाही |1|

संत पंथ पथ लानवँ कोनो,जेमा सत बहुरै संगी |
हितवा-मितवा सब झन बनजैं,कब मिटय मया के तंगी |2|

इहाँ गाय गोबर के खेला,बड़ राजनीति हे भाई |
जनता खोजय हितवा नेता,शासन तो बनगे खाई |3|

 देखव भ्रष्टाचार खड़े हे,फेन साँप कस वो काढ़े |
कोनो मारत नइहे संगी,तब दानव जइसे बाढ़े |4|

पइसा वाला न्याय बिसाही,न्याय आस दुखिया राखे |
ढ़रही आँखी रोज लहू रे,कोन अगमजानी भाखे |5|

बलात्कार कइसे थमही जी,भारत माता तो सोंचे |
सिहरत-कलपत रोजे रोवत,दु:ख लाख हिरदे खोंचे |6|

रचनाकार : श्री असकरन दास जोगी 
पता : ग्राम डोंड़की पोस्ट+तह.-बिल्हा जिला बिलासपुर छत्तीसगढ़

27 comments:

  1. बहुत बहुत धन्यवाद गुरुदेव 🌸🌻💓🙏

    ReplyDelete
  2. लगे रहो भाई बहुत शानदार रचना लिखा है

    ReplyDelete
  3. बहुत बढ़िया भाई,, परम् पूज्य गुरूदेव के फोटो के साथ रचना लिंक करना ,कत्तिक महिनत हमर मन बर गुरूदेव करथे, सादर नमन

    ReplyDelete
    Replies
    1. सहीं कहत हव भईया जी.. . धन्यवाद

      Delete
  4. बहुतेच बढ़िया ताटंक छंद बधाई

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत धन्यवाद

      Delete
  5. वाह वाह सुग्घर ताटंक छंदबद्ध रचना।हार्दिक बधाई।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत धन्यवाद भईया जी

      Delete
  6. सुग्घर रचे हव जोगी जी।बधाई।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत धन्यवाद भईया जी

      Delete
  7. बढ़िया रचना भाई....
    "ढरही रोज लहू आँखी ले" कर लौ भाई मोर हिसाब से
    बाकी गुरुदेव के आज्ञा...

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी भईया जी आपके मार्गदर्शन के पालन अवश्य करहवँ.... बहुत बहुत धन्यवाद

      Delete
  8. बहुत सुन्दर सिरजन आसकरन भाई

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत धन्यवाद मनी भईया जी

      Delete
  9. बहुत बहुत बधाई भइया जी, सुग्घर रचना पढ़े ल मिलिस

    ReplyDelete
  10. वाह्ह वाह्ह् सर जी

    ReplyDelete
  11. वाह्ह वाह्ह् सर जी

    ReplyDelete
  12. वाहहह वाहहह शानदार रचना सर जी।

    ReplyDelete
  13. बहुत बढ़िया रचना है भाई

    ReplyDelete
  14. सुग्घर जोगी जी

    ReplyDelete
  15. सुग्घर जोगी जी

    ReplyDelete
  16. बहुत सुघ्घर ताटंक छंद!!बधाई हो असकरण भाई।।

    ReplyDelete
  17. बहुत सुघ्घर आदरणीय

    ReplyDelete
  18. बधाई हम सर जी👌💐

    ReplyDelete
  19. शानदार ताटंक छंद भैया। सादर बधाई।

    ReplyDelete
  20. बहुत सुन्दर रचना,सुन्दर संदेश

    ReplyDelete