Monday, August 27, 2018

चौपाई छंद - श्री हेमलाल साहू

मच्छर अपन जहर फैलावत। गाँव शहर के घर घर जावत।
 डेंगू बीमारी बगरावत। कहर मौत के हे बरपावत।1।

देख राज मच्छर के आगे। तोर स्वच्छता कहाँ गवागे।
रोज एक झन ला मरना हे। मच्छर के तो ये कहना हे।2।

रहे गन्दगी गाँव शहर मा। रइहव सबके मयँ घर घर मा।
जिनगी मोर गंदगी अंदर। कहिथे मच्छर जंतर मंतर।3।

जात पात ला मँय नइ देखव। थोर थार सफई नइ घेपव।
गन्दा में हे रहना बसना। सबो डहर हे मोर बिछवना।4।

हवे गन्दगी दुनिया भर के। गाँव शहर मा देखव कसके।
कहाँ स्वच्छता तोर लुकागे। भुन भुन बोले मच्छर भागे।5।

फेंक गन्दगी घर के अँगना। जन कहिथे हमला का करना।
अब मच्छर के होंगे बढ़ना। हवे गन्दगी मा ओला रहना।6।

नेता मन ला का हे करना। उनला तो कोठी हे भरना।
रहिस स्वच्छता चारे दिन के। फेर बइठ गे पैसा बिन के।7।

बनिस हवे सब घर सौचालय। काम अधूरा ला करवावय।
रख रखाव ला नइ बनवावय। गली गन्दगी हा बोहावय।8।

हाल गाँव मन के अब देखव। स्वच्छ गन्दगी मा जी  रेगव।
गाँव गली घर मच्छर बसगे। डेंगू के प्रकोप सब बनगे।9।

डेंगू ले पाबे तँय काबू। अपन स्वछता ला रख बाबू।
दूर भागथे जी बीमारी। राख स्वच्छ घर अँगना बारी।10।

छन्दकार - श्री हेमलाल साहू 

23 comments:

  1. सामयिक रचना,सुघ्घर कटाक्ष।

    ReplyDelete
    Replies
    1. सादर धन्यवाद दीदी जी

      Delete
  2. बहुत सुघ्घर भाव हे आदरणीय, बहुत बहुत बधाई।

    ReplyDelete
    Replies
    1. सादर धन्यवाद भैया जी

      Delete
  3. बहुतेच सुग्घर चौपाई छंद आदरणीय

    ReplyDelete
    Replies
    1. सादर धन्यवाद भैया जी

      Delete
  4. बहुत बहुत बधाई साहू जी
    स्वच्छता अउ बीमारी ऊपर बढ़िया चौपाई छंद

    ReplyDelete
    Replies
    1. सादर धन्यवाद भैया जी

      Delete
  5. बहुत बढ़िया हेम भाई

    ReplyDelete
    Replies
    1. सादर धन्यवाद भैया जी

      Delete
  6. बहुत बढ़िया रचना है भाई
    बहुत बहुत बधाई

    ReplyDelete
    Replies
    1. सादर धन्यवाद दीदी

      Delete
  7. बहुत बढ़िया बधाई हो हेम भईया जी

    ReplyDelete
    Replies
    1. सादर धन्यवाद भइय जी

      Delete
  8. बहुत बढ़िया रचना करे हव भैया जी। सादर बधाई।

    ReplyDelete
    Replies
    1. सादर धन्यवाद बड़े भैया

      Delete
  9. वाह वाह ।शानदार सृजन हेम भाई के। हार्दिक बधाई।

    ReplyDelete
    Replies
    1. सादर धन्यवाद बड़े भैया

      Delete
  10. गजब सुग्घर सर

    ReplyDelete
    Replies
    1. सादर धन्यवाद ज्ञानु भाई जी

      Delete
  11. बहुत सुन्दर समसामयिक रचना हे हेम सर।

    ReplyDelete
    Replies
    1. सादर धन्यवाद भैया जी

      Delete
  12. बहुत सुन्दर गुरुदेव

    ReplyDelete