Wednesday, August 1, 2018

सुखी सवैया - आशा देशमुख


जिनगी हर बीतय जोरत जोरत अंत समे कुछु काम न आवय ।
सब मोह मया भुलवारत हे अउ छूटत साँस सबो तिरियावय ।
गिनके मिलथे जिनगी दिन हा तब ले मनखे मन जाय भुलावय
कतको भलमानुष हे जग मा जस के करनी कर नाम कमाय।

2--बलि

बदना बदके बलि देवत हे कतको मनखे मन देव मनावय|
झन मारव जीव जनावर ला सब मा सुनले भगवान समावय|
नइ माँगय देव कभू कउनों बलि ये मनखे मन रीत बनावय|
कुकरा बकरा बधिया कहिके मनखे जिभिया रस स्वाद बतावय|


3--आज का चित्रण

पहली बिहने हरिनाम भजे अउ राम कहे जय राम कहे सब ।
अब तो उठके सब फोन धरे अउ कॉल करे मिस कॉल करे तब |
युग हा बदले मनखे बदले तकनीक नवा सब बौरत हे अब ।
रतिया भर जागय नेट धरे दिन मा सुसतावय काम करे कब ।

4--नवा साल के बधाई

शुभ होवय साल नवा सबके जिनगी हर सुघ्घर सुन्दर बीतय |
परिवार सबो खुशहाल रहे सुख के तरिया ह कभू झन रीतय|
सुख मान मया सुमता नित बाढ़य दुःख सुवारथ ला सब जीतय|
दुनियाँ भर नाम करे जस के मनखे मन प्रेम मया रँग छीतय ।

5--
सब खोजय मंदिर तीरथ मा अउ खोजत हे तुंहला बन मा प्रभु| 
कउनों नइ झांकय अंतस ला बइठे  हिरदे रहिथौ मन मा प्रभु ।
नइ रीझव राज सिंहासन मा नहि दौलत मा नइतो धन मा प्रभु 
बस भाव भरे मन उज्जर देखव रीझव बोइर माखन मा प्रभु ।

छंदकार - आशा देशमुख , छत्तीसगढ़ 


33 comments:

  1. बहुत बहुत आभार गुरुदेव
    आपके उदारता ला नमन हे गुरुवर।

    ReplyDelete
  2. सुघ्घर सुखी सवैया हे दीदी,बधाई!!

    ReplyDelete
  3. बहुँत बहुँत बधाई दीदी।सुग्घर रचे हव।

    ReplyDelete
  4. सुघ्घर सुखी सवैया हे दीदी,बधाई!!

    ReplyDelete
  5. बहुतेच सुग्घर सुखी सवैया आदरणीया दीदी जी बधाई

    ReplyDelete
  6. वाह.... शानदार सवैया दीदी

    ReplyDelete
  7. बधाई हो दीदी,सुग्घर रचना💐💐

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार बहिनी

      Delete
  8. अब्ब़़ड सुग्घर सवैया दीदी

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार भाई

      Delete
  9. लाजवाब सुखी सवैया।हार्दिक बधाई।

    ReplyDelete
    Replies
    1. सादर आभार नमन भैया जी

      Delete
  10. वाह वाह दीदी,सुघ्घर सुमुखी सवैया

    ReplyDelete
    Replies
    1. सादर आभार भाई जितेंन्द्र

      Delete
  11. बहुत बढ़िया दीदी बधाई हो

    ReplyDelete
    Replies
    1. सादर आभार भाई आसकरण

      Delete
  12. वाह वाह दीदी बहुत सुंदर बधाई हो

    ReplyDelete
    Replies
    1. सादर आभार भाई राजेश

      Delete
  13. बहुत सुग्घर दीदी

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार भाई ज्ञानु

      Delete
  14. वाहहह वाहह दीदी लाजवाब हे पाँचो सुखी सवैया ह।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार भाई सुखदेव

      Delete
  15. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  16. समाज बर सुघ्घर चिंतन दीदी

    ReplyDelete
  17. शानदार लेखनी चले हे बहिनी...
    अंतस ले बधाई

    ReplyDelete
  18. बहुत सुन्दर रचना दीदी जी

    ReplyDelete
  19. बहुत सुन्दर रचना दीदी जी

    ReplyDelete