Saturday, June 16, 2018

जल हरण घनाक्षरी - श्री चोवाराम "बादल"

      1  ममहाबे
ममहाबे चारों खूँट , होही भाई तोरो पूछ ,
जिनगी  सवँर जाही, उदबत्ती कस खप ।
पक्का बन जबान के, संग धर ईमान के,
 काबर कच्चा कान के, छोंड़ देना लपझप ।
मिहनत कर संगी, नइ राहै कभू तंगी,
उदाबादी झन कर ,  इही आय बड़े तप ।
भुईंया ल सिंगार के, पसीना ल ओगार के,
भाईचारा बाँट लेना , प्रेम मन्त्र माला जप ।।

      2  हवै पहात उमर
नेत नेत नेत बने, चेत चेत चेत बने,
देख देख देख बने, हवै पहात उमर ।
तन ला दिंयाँर कस, चिंता चरत हावय,
धक धक करे जीव, बाढ़े  बीपी ग सुगर ।
एको ठन दाँत नहीं, चना चाब खाहूँ कहे ,
लालच म डूब मरे , पचै नहीं खा
 कुचर ।
हरे राम हरे कृष्ण , गोविंद गोपाल भज,
चौथा पन आगे हवै, सोंच थोरको सुधर ।।

    3 लइका बिगड़ जाथे

उपराहा पैसा पाके, होटल सिनेमा जाके,
गलत संगति धर, जाथे लइका बिगड़ ।
मौका म दुलार बने, मया परवान चढ़े,
डाँट फटकार घलो, कहूँ करै गड़बड़ ।
जादा मीठ कीरा परे, रोबे तहाँ मूँड़ धरे,
बेरा म ईलाज कर, लगा दवई झाफड़ ।
सिक्छा अउ संस्कार दे, पाही रोटी रोजगार ,
बचपन सँवार दे, गुन गाही अड़बड़ ।।

रचनाकार - श्री चोवा राम " बादल"
( छन्द के छ परिवार साधक)
     हथबन्द, छत्तीसगढ़
   493113

42 comments:

  1. लाजवाब घनाक्षरी बादल सर के वाहहह वाहहहहह!

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद अहिलेश्वर जी।

      Delete
  2. बहुत सुघ्घर घनाक्षरी भैया जी।।

    ReplyDelete
  3. बहुत सुघ्घर घनाक्षरी भैया जी।।

    ReplyDelete
  4. बहुत सुग्घर रचना सर। सादर बधाई

    ReplyDelete
  5. बहुत सुग्घर रचना सर। सादर बधाई

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद ज्ञानु भाई।

      Delete
  6. अनुपम सृजन
    बादल भैया

    ReplyDelete
    Replies
    1. सादर आभार आशा देशमुख बहिनी जी।आपके प्रोत्साहन अब्बड़ सम्बल प्रदान करथे।

      Delete
  7. Replies
    1. धन्यवाद मथुरा वर्मा जी।

      Delete
  8. अनंत बधाई आदरणीय

    ReplyDelete
  9. सुग्घर जलहरण घनाक्षरी रचे हव बादल भइया।बधाई।

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद आदरणीय।

      Delete
  10. वाह भइया शानदार घनाक्षरी

    ReplyDelete
  11. वाह गुरुदेव। शानदार जल हरण घनाक्षरी हे।सादर बधाई। प्रणाम।

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद मोहन भाई।

      Delete
    2. धन्यवाद मोहन भाई।

      Delete
  12. चेत झन देवै हेर दुःख के सकेल ढेर
    बात बने आप इहाँ छंद मा सजाये हव।
    रेंगैंं झन अंते तंते लपड़ झपड़ धरे
    परिणाम एकर ला बने गोठियाये हव।।
    चोवा भैया दिनरात बूड़े परहित काज
    जीवन सफल बने अपन बनाये हव।
    मुक्ति पाये के दुआरी मानुस के तनधारी
    बात सार जिनगी के बढ़िया बताये हव।।
    भैया के सुंदर रचना बर गाड़ा गाड़ा बधाई
    सादर प्रणाम उनला....

    ReplyDelete
    Replies
    1. सादर आभार सूर्या भैया।

      Delete
  13. वाह बहुत सुंदर भईया जी बधाई हो

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद जोगी जी।

      Delete
  14. वाह बहुत सुंदर भईया जी बधाई हो

    ReplyDelete
  15. बहुत सुग्घर सिरजन बड़े भइया जी

    ReplyDelete
  16. सुग्घर घनाक्षरी बर बधाई

    ReplyDelete
  17. बहुत बढ़िया मनहरण घना

    ReplyDelete
  18. सुग्घर रचना भइया जी

    ReplyDelete
  19. शानदार रचना भइया जी

    ReplyDelete
  20. बहुत बढ़िया गुरुदेव जी

    ReplyDelete
  21. बहुत बढ़िया गुरुदेव जी

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद जगदीश भाई।

      Delete
  22. उम्दा सर,एक ले बढ़के एक घनाक्षरी

    ReplyDelete
  23. बहुत सुन्दर गुरुदेव जी

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद बोधन भाई।

      Delete
  24. बहुत सुघ्घर चोवाराम भाई जी

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद वसंती जी।

      Delete