Monday, June 18, 2018

चौपाई - श्री कन्हैया साहू "अमित"

धरती मँइयाँ

नँदिया  तरिया  बावली, भुँइयाँ जग रखवार।
माटी  फुतका  संग  मा, धरती जगत अधार।।

जल जमीन जंगल जतन, जुग-जुग जय जोहार।
मनमानी अब झन  करव, सुन भुँइयाँ  गोहार।।

पायलगी हे धरती मँइयाँ,
अँचरा तोरे पबरित भुँइयाँ।
संझा बिहना माथ नवावँव,
जिनगी तोरे संग बितावँव।~1

छाहित ममता छलकै आगर,
सिरतों तैं सम्मत सुख सागर।
जीव जगत जन सबो सुहाथे,
धरती मँइयाँ मया लुटाथे।~2

फुलुवा फर सब दाना पानी,
बेवहार बढ़िया बरदानी।
तभे कहाथे धरती दाई,
करते रहिथे सदा भलाई।~3

देथे सबला सुख मा बाँटा,
चिरई चिरगुन चाँटी चाँटा।
मनखे बर तो खूब खजाना,
इहें बसेरा ठउर ठिकाना।~4

रुख पहाड़ नँदिया अउ जंगल,
करथें मिलके जग मा मंगल।
खेत खार पैडगरी परिया,
धरती दाई सुख के हरिया।~5

जींयत भर दुनिया ला देथे,
बदला मा धरती का लेथे।
धरती दाई हे परहितवा,
लगथे बहिनी भाई मितवा।~6

आवव अमित जतन ला करबो,
धरती के हम पीरा हरबो।
देख दशा अपने ये रोवय,
धरती दाई धीरज खोवय।~7

बरफ करा गरमी मा गिरथे,
मानसून अब जुच्छा फिरथे।
छँइहाँ भुँइयाँ ठाड़ सुखावय,
बरबादी बन बाढ़ अमावय।~8

मतलबिया मनखे मनगरजी,
हाथ जोड़ के हावय अरजी।
धरती ले चल माफी माँगन,
खुदे पाँव झन टँगिया मारन।~9

बंद करव गलती के पसरा,
छदर-बदर झन फेंकव कचरा।
दुखदाई डबरा  ला पाटव,
रुखराई मत एको काटव।~10

 करियावय झन उज्जर अँचरा,
 कूड़ादानी  डारव  कचरा।
 कचरा के करबो निपटारा,
 चुकचुक चमकै ये संसारा।~11

लालच लहुरा लउहा लाशा,
 धरती सँउहें खीर बताशा।
 महतारी कस एखर कोरा,
 काबर सुख के भूँजन होरा।~12

पेड़ मीठ फर पथरा परथे,
हुमन करे मा हँथवा जरथे।
धरती के भरपुरहा कोरा,
दशा देख झन दाँत निपोरा।~13

सँइता सुख के सुग्घर सिढ़िया,
बाँटव बाढ़व राहव बढ़िया।
 साहू अमित करय हथजोरी,
धर रपोट झन बनव अघोरी।~14

 आवव राजा आवव परजा,
 उतारबो धरती के करजा।
 उड़ती बुड़ती उँचहा उज्जर,
 दिखही दुनिया बहुते सुग्घर।~15

देथे धरती जिनगी भर जी,
झन सकेल,तैं सँइता कर जी।
बाँटे मा मिलथे सुख गहना,
एकमई सब हिलमिल रहना।~16

रोकव राक्छस परदुसन,धरती करय पुकार।
पुरवाही फुरहुर बहय, अमित दवा दमदार।।

रचनाकार - श्री कन्हैया साहू "अमित"
शिक्षक~भाटापारा, छत्तीसगढ़
संपर्क~9200252055

14 comments:

  1. सुग्घर रचना भाई

    ReplyDelete
  2. वाह्ह्ह्ह् गजब अमित भाई जी

    ReplyDelete
  3. वाह्ह्ह्ह् गजब अमित भाई जी

    ReplyDelete
  4. वाहःहः भाई अमित
    बहुते सुघ्घर मनभावन चौपाई छंद

    ReplyDelete
  5. वाह बहुँत सुग्घर अमित जी।बधाई।

    ReplyDelete
  6. बहुतेच सुग्घर चौपाई छं अमित भाई

    ReplyDelete
  7. चौपाई छंद मा बेहतरीन रचना करे हव भैया जी। सादर बधाई।

    ReplyDelete
  8. वाहहह मनभावन चौपाई छंद सर

    ReplyDelete
  9. बहुत सुग्घर चौपाई अमित जी

    ReplyDelete
  10. वाह बहुत बढ़िया बधाई हो भईया जी

    ReplyDelete
  11. अमित भाई के सुग्घर चौपाई छन्द।

    ReplyDelete
  12. बहुत सुन्दर सर

    ReplyDelete
  13. आप सबोझन के वंदन अउ जै जोहार...

    ReplyDelete