Thursday, March 22, 2018

गीतिका छन्द - श्री दिलीप कुमार वर्मा

गीतिका मा गीत -

गीत गाले मीत मोरे,प्रीत के तँय राग मा।
झन जला अंतस अपन तँय,बैर रख मन आग मा।

खुश रहे ले सुख ह मिलथे,दुख़ म बाढ़य ताप जी।
जेन मन सब ला भुलाइन,ते मगन हे आप जी।
जेन रखथे बैर मन मा,खुद जले ओ आग मा।
गीत गाले मीत मोरे,प्रीत के तँय राग मा।

प्यार बाँटे प्यार पाबे,प्यार हर संसार हे।
प्यार बिन जीवन अधूरा,प्यार ही घर द्वार हे।
प्यार तो अहसास होथे,जान अंतस भाग मा।
झन जला अंतस अपन तँय,बैर रख मन आग मा।

देख दुनिया नइ रुकय गा,एक मनखे वासते।
चल चलाचल संग साथी,गम भुला चल हाँसते।
ओ सफल हे जेन चलथे,रुख हवा के साँथ मा।
 जेन उल्टा राह चलथे, कुछ न आवय हाँथ मा।

मान कहना मोर संगी,तोर तब उद्धार हे।
साँथ चल सब संग लेके,देख तब संसार हे।
सुख इहाँ हे दुख़ इहाँ हे,भोग जे हे भाग मा।
सोच के अब तन अपन गा,झन जला अब आग मा।

रचनाकार - श्री दिलीप कुमार वर्मा
बलौदाबाजार, छत्तीसगढ़

20 comments:

  1. बहुत सुघ्घर गीतिका छंद भईया जी

    ReplyDelete
  2. बहुत सुघ्घर गीतिका छंद भईया जी

    ReplyDelete
  3. Replies
    1. धन्यवाद अजय जी।

      Delete
  4. वाहःहः दिलीप भाई जी

    शानदार गीत

    ReplyDelete
  5. बहुत खूब भैया

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार वर्मा जी।

      Delete
  6. वाह्ह वाह्ह सर जी बहुते सुन्दर गीतिका गीत।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार सुखदेव भाई।

      Delete
  7. गीतिका के तूलिका ले, आज रच दे छंद रे
    मान मंदिर मा मढा दे, मोहिनी मन - बंद रे।
    भाव के भुइयाँ बडे हे, ला चढाबो - फूल रे
    देख तो नटवर खडे हे, मान मीठा बोल रै।

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद दीदी।
      बड़ सुग्घर गीतिका रचे हव।
      मान मन्दिर मा मढ़ादे,मोहिनी मन बंद रे।
      वाह्ह्ह्ह्

      Delete
  8. गीतिका छंद मा बेहतरीन रचना करे हव भैया जी,बधाई हो आदरणीय ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. भन्यवाद वर्माजी।

      Delete
  9. गीतिका छंद म भाव भरे शानदार जीत बर दिलीप वर्मा जी ला हार्दिक शुभकामना।

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद भइया जी।

      Delete
  10. वाह्ह्ह् वाह्ह्ह् अनुपम रचना सरजी।सादर बधाई

    ReplyDelete
  11. वाह्ह्ह् वाह्ह्ह् अनुपम रचना सरजी।सादर बधाई

    ReplyDelete