Monday, March 26, 2018

हरिगीतिका छन्द - श्री चोवाराम "बादल"

(1)
कचरा इहाँ कचरा उहाँ, कचरा ह कचरा फेंकथे ।
कचरा हटा घर के अपन, बाहिर गली मा लेगथे।।
घुरुवा सहीं दिखथे शहर, कुढ़वाय कचरा चौंक मा ।
घिन घिन अबड़ जी लागथे, माँछी परे जस छौंक मा ।।

(2)
समझाय समझय कोन हा,उपदेस सब झन झाड़थें।
डब्बा अगोरत रहि जथे, कचरा कहाँ जी डारथें ।
जस हे शहर के हाल हा,तस गाँव के गा हाल हे।
करके शहर के सब नकल, बिगड़े हवय अब चाल हे।।

(3)
मुँह जोहथें सरकार के, फोकट म सब कुछ मिल जवय।
बइठे रहँय चुपचाप खुद,परबत ह ओती हिल जवय।
अँधियार ला जोहार के,चाहँय अँजोरी आ मिलय।
घुघुवा ह कहिथे रात मा,फुलुवा कमल के जी खिलय ।।

(4)
टीना बदल के देख तो, मनखे ल सोना चाहिये ।
माथा म हे कचरा भरे ,वो दूर होना चाहिये ।
पालय नहीं जी गाय ला, रबड़ी मलाई चाहिये ।
शुरुवात अपने से करँय, सब ला सफाई चाहिये ।

रचनाकार - श्री चोवाराम "बादल"
ग्राम - हथबन्द (भाटापारा) छत्तीसगढ़

11 comments:

  1. बड़ सुग्घर हरिगीतिका छंद रचे हव भइया। बधाई हो।

    ReplyDelete
  2. वाह्ह् भैया ज्वलंत विषय डहर ध्यान आकृष्ट करात लाजवाब हरिगीतिका के सृजन।सादर बधाई।

    ReplyDelete
  3. बहुत ही शानदार हरिगीतिका छंद के सृजन करे हव गुरुदेव बादल जी।अनुपम रचना बर सादर नमन। बधाई।

    ReplyDelete
  4. शानदार रचना के संग म जानदार विषय कचरा अउ गाय... अनुपम सृजन बर अड़बड़ अकन बधाई... चोवा भईया जी

    ReplyDelete
  5. शानदार रचना के संग म जानदार विषय कचरा अउ गाय... अनुपम सृजन बर अड़बड़ अकन बधाई... चोवा भईया जी

    ReplyDelete
  6. हरिगीतिका कइसे लिखौं कइसे पढौं - हरिगीतिका
    अबका करौं मनमा गुनौ,कइसे बनौ निज पीठिका।

    ReplyDelete
  7. वाह्ह बादल भइया अब्बड़ सुग्घर सफाई बर चेतावत हरिगीतिका छंद भइया लाजावाब

    ReplyDelete
  8. सादर चरण बन्दन,अति सुघ्घर गुरुदेव

    ReplyDelete
  9. बेहतरीन रचना सर।सादर बधाई

    ReplyDelete
  10. बेहतरीन रचना सर।सादर बधाई

    ReplyDelete