Saturday, August 26, 2017

श्री रमेश कुमार सिंह चौहान के दोहा -

श्री रमेश कुमार सिंह चौहान के दोहा -

               सुमरनी

1. हे आखर के देवता, लंबोदर महराज ।
भरे सभा मा लाज रख, सउॅंहे आके आज ।।

2. जय जय मइया षारदे, रख दे मोरो मान ।
तोर षरण मैं आय हॅव, दे दे मोला ज्ञान ।।

3. दुर्गा दाई तोर तो, परत हंव मैं पांव ।
दे दे मोला आय के, सुख अचरा के छांव ।।

राधा राधा बोल तैं, पा जाबे भगवान ।
जिहां जिहां राधा रहय, उहां उहां गा ष्याम ।।


               दोहा के मरम

4. कविता के हर षब्द मा, अनुषासन के बंद ।
आखर आखर के परख, गढ़थे सुघ्घर छंद ।।

5. चार चरण दू डांड़ के, होथे दोहा छंद ।
तेरा ग्यारा होय यति, रच ले तै मतिमंद ।।

6. विशम चरण के अंत मा, रगण नगण तो होय ।
तुक बंदी  सम चरण रख, अंत गुरू लघु होय ।।

7. सागर ला धर दोहनी, दोहा हा इतराय ।
अंतस बइठे जाय के, अपने रंग जमाय ।।

8. बात बात मा बात ला, मनखे ला समझाय ।
दोहा अइसन छंद हे, जेला जन जन भाय ।।

9. दोहा हर साहित्य के, बने हवय पहिचान ।
बीजक संत कबीर के, तुलसी मानस गान ।।

10. छत्तीसगढ़ी मा घला, दोहा के हे मान ।
धनीधरम जी हे रचे, जाने जगत महान ।।

11. विप्र दलित मन हे रचे, रचत हवे बुधराम ।
अरूण निगम ला देख लौ, रचत हवय अविराम ।।

12. बोली ले भासा गढ़ी, रखी सोच ला रोठ ।
षिल्प विधा मा हम रची, जुर मिल रचना पोठ ।।

13. अनुसासन के पाठ ले, बनथे कोनो छंद ।
देख ताक के षब्द रख, बन जाही मकरंद ।।

14. छोट बुद्धि तो मोर हे, करत हंवव परयास ।
चतुरा चतुरा बड़ हवय, लाही जेन उजास ।।

                 कविता मा रस

15. सुने पढ़े मा काव्य ला, जउन मजा तो आय ।
आत्मा ओही काव्य के, रस तो इही कहाय ।

16. चार अंग रस के हवय, पहिली स्थाई भाव ।
रस अनुभाव विभाव हे, अउ संचारी भाव ।।

17. भाव करेजा मा बसे, अमिट सदा जे होय ।
ओही स्थाई भाव हे, जाने जी हर कोय ।।

18. ग्यारा स्थाई भाव हे, हास, षोक, उत्साह ।
क्रोध,घृणा,आष्चर्य भय,षम,रति,वतसल,भाह ।। (भाह-भक्ति)

19. कारण स्थाई भाव के, जेने होय विभाव ।
उद्दीपन आलंबन ह, दू ठन तो हे नाव ।।

20. जेन सहारा पाय के, जागे स्थाई भाव ।
जेन विशय आश्रय बने, आलंबन हे नाव ।।

21. जेन जगाये भाव ला, ओही विशय कहाय ।
जेमा जागे भाव हा, आश्रय ओ बन जाय ।।

22. जागे स्थाई भाव ला, जेन ह रखय जगाय ।
उद्दीपन विभाव बने, अपने नाम धराय ।।

23. आश्रय के चेश्टा बने, व्यक्त करे हेे भाव ।
करेे भाव के अनुगमन, ओेही हेे अनुभाव ।।

24. कभू कभू जे जाग के, फेर सूत तो जाय ।
ओही संचारी भाव गा, अपने नाम धराय ।।

25. चार भाव के योग ले, कविता मा रस आय ।
पढ़े सुने मा काव्य के, तब मन हा भर जाय ।।

रचनाकार - श्री रमेश कुमार सिंह चौहान
                    नवागढ़ (बेमेतरा)
                    छत्तीसगढ़

18 comments:

  1. वाह रमेश भैया सुग्घर दोहा । बड़ दिन होंगे आपसे मुलाकात होय,भाटापारा कब आहू ।

    ReplyDelete
  2. वाह रमेश भैया सुग्घर दोहा । बड़ दिन होंगे आपसे मुलाकात होय,भाटापारा कब आहू ।

    ReplyDelete
  3. बड़ सुग्घर दोहा चौहान जी। बधाई।

    ReplyDelete
  4. विघ्नहर्ता देव गजानन अउ दोहा छंद विधान के सुघ्घर वर्णन।।बहुत बढ़िया रमेश भैया।।

    ReplyDelete
  5. विघ्नहर्ता देव गजानन अउ दोहा छंद विधान के सुघ्घर वर्णन।।बहुत बढ़िया रमेश भैया।।

    ReplyDelete
  6. वाह्ह्ह्ह्ह् रमेश भइया ,दोहा के विधान ला दोहा मा गुँथ डारे हव ,
    आप मन के दोहा गागर में सागर ए

    ReplyDelete
  7. बहुँत सुंदर दोहा रमेश भईया जी... बधाई आपमन ल

    ReplyDelete
  8. बहुँत सुंदर दोहा रमेश भईया जी... बधाई आपमन ल

    ReplyDelete
  9. आदरणीय रमेश चौहान जी के दोहा--सुमरनी, दोहा के मरम,कविता मा रस आदि विधान सम्मत अउ भावपूर्ण हे।पढ़े मा आनन्द आगे।
    चौहान जी ला हार्दिक शुभकामनाए।

    ReplyDelete
  10. बहुत सुग्घर भावपूर्ण अउ हमर जइसन नेवरिया मन बर अनुकरणीय दोहावली रचे हव,चौहान जी।बहुत बहुत बधाई।

    ReplyDelete
  11. निर्दोष अनुकरनीय दोहालरी बड़े भैयाजी।

    ReplyDelete
  12. अनुपम दोहावली भाई रमेश
    लेखनी ला सादर नमन

    ReplyDelete
  13. वाह वाह सर बहुत बढ़िया दोहा

    ReplyDelete
  14. बहुत सुग्घर दोहावली के सृजन सर।सादर बधाई

    ReplyDelete
  15. बहुत सुग्घर दोहावली के सृजन सर।सादर बधाई

    ReplyDelete
  16. सुघ्घर भावपूर्ण दोहावली बर बधाई।

    ReplyDelete
  17. सुघ्घर भावपूर्ण दोहावली बर बधाई।

    ReplyDelete
  18. दोहा के मरम
    बड़ सुग्घर छंद ज्ञान ल धरे दोहावली रमेश भैया बहुत बहुत बधाई

    ReplyDelete