Sunday, April 15, 2018

सरसी छन्द - श्री कन्हैया साहू "अमित"

   शिव विवाह के बरतिया वर्णन -

   बिकट बरतिया बिदबिद बाजँय, चाल चलय बेढ़ंग।
   बिरबिट करिया भुरुवा सादा, कोनो हे छतरंग।।1

   कोनो उघरा उखरा उज्जट, उदबिदहा उतलंग।
   उहँदा उरभट कुछु नइ घेपँय, उछला उपर उमंग।2

   रोंठ पोठ सनपटवा पातर, कोनो चाकर लाम।
   नकटा बुचुवा रटहा पकला, नेंग नेंगहा नाम।।3

   खरभुसरा खसुआहा खरतर, खसर-खसर खजुवाय।
   चिटहा चिथरा चिपरा छेछन, चुन्दी हा छरियाय।।4

   जबर जोजवा जकला जकहा, जघा-जघा जुरियाय।
   जोग जोगनी जोगी जोंही,  बने बराती जाय।।5

   भुतहा भकला भँगी भँगेड़ी, भक्कम भइ भकवाय।
   भसरभोंग भलभलहा भइगे, भदभिदहा भदराय।।6

   भकर भोकवा भिरहा भदहा, भूत भसड़हा भरमार।
   भीम भकुर्रा भैरव भोला, भंडारी भरतार।।7

   मौज मगन मनमाने मानय, जौंहर उधम मचाय।
   चिथँय कोकमँय हुदरँय हुरमत, तनातनी तनियाय।।8

   आसुतोस तैं औघड़दानी, अद्भूत तोर बिहाव।
   अजर अमर अविनासी औघड़, अड़हा अमित हियाव।।9

रचनाकार - श्री कन्हैया साहू "अमित"
(शिक्षक)भाटापारा

14 comments:

  1. वाहःहः अमित भाई शिव विवाह के बहुते सुघ्घर बर्णन करे हव।

    ReplyDelete
  2. शिव के महिमा अपरम्पार। सरस = सरसी। कई ठन शब्द मोला समझ मा नहीं आइस, कन्हैया।

    ReplyDelete
  3. वा बहुत बढ़िया रचना लिखे हस साहू जी पढ़ के मजा आगे ।
    बहुत बहुत बधाई हो ।

    महेन्द्र देवांगन माटी

    ReplyDelete
  4. वाह वाह बहुत बढ़िया बधाई हो भईया जी

    ReplyDelete
  5. वाह वाह बहुत बढ़िया बधाई हो भईया जी

    ReplyDelete
  6. बेहतरीन रचना सर।सादर बधाई

    ReplyDelete
  7. बेहतरीन रचना सर।सादर बधाई

    ReplyDelete
  8. शिव जी के बिहाव के बरतिया मन के वर्णन सुग्घर ढंग ले करे हव भैया जी। सादर बधाई।

    ReplyDelete
  9. जबरदस्त शिव बिहाव के वर्णन अमित भाई,
    मजा आगे

    ReplyDelete
  10. जबरदस्त शिव बिहाव के वर्णन अमित भाई,
    मजा आगे

    ReplyDelete
  11. वाह सुग्घर सरसी रचे हव अमित जी।बधाई।

    ReplyDelete
  12. वाह क्या कहना।जबरजस्त

    ReplyDelete
  13. बार बार पढ़े के मन करथे एला, जबरजस्त शब्द अनुप्रास भरे हव।बधाई सर

    ReplyDelete
  14. आप सबो ला अंतस ले अभार।

    ReplyDelete