Sunday, February 18, 2018

सरसी छंद - श्री जगदीश "हीरा" साहू

मन के पीरा  

नाँव हवय जगदीश मोर जी, खोलत हावँव राज।
देख जगत के पीरा ला मँय, बोलत हावँव आज।।1।।

घर के भीतर कुकुर बँधाये, बाहिर घूमे गाय।
का होही ये देश-राज के, कुछु समझ नहीं आय।।2।।

रोवत बइठे दाई बाबू, दुख ला कोन मिटाय।
धरके बाई होटल जावय, आनी-बानी खाय।।3।।

कठल-कठल के रोवय लइका, तभो तरस नइ आय।
भरके बोतल दूध पियाये, घर मा रोग बलाय।।4।।

भाई होगे बैरी देखव, मुँह देखन नइ भाय।
बनगे हितवा आज परोसी, मन के बात बताय।।5।।

मंदिर मा लगगे हे तारा, दूध गली बोहाय।
दारू खातिर भीड़ लगे हे, पीके बड़ इतराय।।6।।

संस्कृति हर गा कहाँ नँदागे, देख आज के काम।
कपड़ा-लत्ता छोटे होगे, नख होगे हे लाम।।7।।

राम-राम बोले मा काबर, लगथे अड़बड़ लाज।
हाय-हलो मा सबो भुलाये, बिगड़त हवय समाज।।8।।

रचनाकार - श्री जगदीश "हीरा" साहू
कड़ार (भाटापारा)
छत्तीसगढ़ 

27 comments:

  1. बहुत बढ़िया रचना बधाई हो साहू जी

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद माटी जी

      Delete
  2. बहुत बढ़िया सृजन हे भाई

    ReplyDelete
  3. सुग्घर सरसी छंद,जगदीश भाई।बधाई अउ शुभकामना।

    ReplyDelete
    Replies
    1. अइसने मया मिलत रहय भइया

      Delete
  4. सुग्घर भाई ....अइसने लिखत रहव

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपके साथ अइसने मिलत रहय

      Delete
  5. सुग्घर भाई ....अइसने लिखत रहव

    ReplyDelete
  6. छत्तीसगढिया सबले - बढिया, हीरा बाँधय गाय
    गोबर के खातू बन जाही, गोरस बिकट मिठाय।

    ReplyDelete
    Replies
    1. दीदी के आशीष ले, मिलय गजब आनंद।
      कलम चलय सरलग सदा, लिखथँव सरसी छंद।।

      Delete
    2. दीदी के आशीष ले, मिलय गजब आनंद।
      कलम चलय सरलग सदा, लिखथँव सरसी छंद।।

      Delete
  7. बहुत बढ़िया सरसी सर जी

    ReplyDelete
  8. बहुत बढ़िया सरसी सर जी

    ReplyDelete
  9. वाह वाह सुग्घर सरसी छंद।

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद गुरूजी

      Delete
  10. वाह्ह्ह् वाह्ह्ह् बहुत सुग्घर।सादर बधाई

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद ज्ञानु भईया

      Delete
  11. वाह्ह्ह् वाह्ह्ह् बहुत सुग्घर।सादर बधाई

    ReplyDelete
  12. वाह वाह बहुत बढ़िया भैया

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद भइया जी

      Delete
  13. जुग के जान प्रभाव इहाँ जी, मति तो गय हेराय।
    गलत आचरण मा बूड़े हें, कोन बात समझाय।।
    बहुत बढ़िया भाईईईई... सादर बधाई

    ReplyDelete
    Replies
    1. प्रणाम गुरुदेव जी

      Delete
  14. वाह! जगदीश भाई
    जतका तारीफ करे जाय कम हे।
    सुग्घर रचना संजोय बर गाड़ा गाड़ा बधाई

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद मथुरा भाई

      Delete
    2. धन्यवाद मथुरा भाई

      Delete