Friday, September 1, 2017

रोला छन्द - श्री कन्हैया साहू "अमित"

रोला छन्द - श्री कन्हैया साहू  "अमित"

किसान -

धनहा डोली खार,संग मा गाङ़ी बइला।
नाँगर जाँगर जोर,अन्न तैं देथच सबला।।
जगहित साधे काज,सबो के जीवन दाता।
बरुवा सिधवा पूत,तोर हे धरती माता ।।

टेटका -

मनखे बदले रंग,असल ला तोपे ढ़ाँके।
परके देखे दोस,अपन मा नइ तो झाँके।।
कथनी करना आन,दुसर ला पाठ पढ़ाथे।
अइसन दुनिया ढ़ंग,टेटका घलो लजाथे ।।

सुरता -

बढ़िया बीते आज,काल सुरता बन जाही।
करबो हित के काज,समे कब लहुरा आही।।
मानुस तन ला पाय,कभू झिन बिरथा पारव।
मन के संसो टार,मया के थरहा डारव।।

रचनाकार - कन्हैया साहू "अमित"
भाटापारा, छत्तीसगढ़

17 comments:

  1. बहुँत सुघ्घर रोला बधाई हो अमित भईया जी

    ReplyDelete
  2. बहुँत सुघ्घर रोला बधाई हो अमित भईया जी

    ReplyDelete
  3. वाह अमित जी बढिया ।

    ReplyDelete
  4. वाह अमित जी बढिया ।

    ReplyDelete
  5. वाह्ह्ह्ह्ह् अमित भाई सुग्घर रोला ,बधाई

    ReplyDelete
  6. आप सबो ला अंतस ले अभार।

    गुरुदेव के बारंबार पयलगी इँखर किरपा ले ए सब संभव होय हे।

    ReplyDelete
  7. बहुत बढ़िया भैया

    ReplyDelete
  8. वाह्ह् बड़ सुग्घर संदेश हे आपके रोला छंद म अमित सर जी बहुत बधाई

    ReplyDelete
  9. वाहःहः अमित भाई सुघ्घर छंद

    ReplyDelete
  10. बड़ सुघ्घर रोला छंद अमित जी।।

    ReplyDelete
  11. बड़ सुघ्घर रोला छंद अमित जी।।

    ReplyDelete
  12. बहुत बढ़िया दोहा अमित भाई

    ReplyDelete
  13. बहुत सुग्घर रोला छंद सर।सादर बधाई

    ReplyDelete
  14. बहुत सुग्घर रोला छंद सर।सादर बधाई

    ReplyDelete
  15. बहुत सुग्घर रोला छंद हे,अमित भैया। बधाई।

    ReplyDelete
  16. कन्हैया जी ,बहुँत सुग्घर रोला सिरजाय हव।बधाई।

    ReplyDelete
  17. अमित भैया बहुत बढ़िया

    ReplyDelete