Monday, September 4, 2017

श्री मनीराम साहू के दोहा

श्री मनीराम साहू के दोहा

भउजी के जी रंधनी, अड़बड़ मन ला भाय।
चिक्कन चाँदन हे दिखत,चुल्हा हवय लिपाय।।

माँजे धोये हे रखे,थारी संग गिलास।
बटकी माली तीर मा,जम्मो हा फुलकाँस।।

करछुल झारा अउ डुवा,हे चक बाँगा स्टील।
जम्मो माढ़े पाट मा,कोन्टा लोढ़ा सील।।

गंज कराही तोपना, पयनाहा टंगाय।
हँउला मा पानी भरे,बटलोही तोपाय।।

शौचालय बनवाव जी,लोटा धर झन जाव।
चारों कोती स्वच्छता,दिखही जम्मो गाँव।।

लोटा मा पानी रखय,पीढ़ा मा बइठाय।
छत्तीसगढ़िन हाँस के, पहुना ला परघाय।।

लोटा मा पानी धरे,बाट देखहूँ तोर।
मोला तीजा लेगबे,आबे भाई मोर।।

लोटा टठिया बेच के,लइका जेन पढ़ाय।
उही ददा-दाई हरय,भीख माँग अब खाय।।

संसो झन कर थोरको,रखहूँ दीदी ध्यान।
रहिबे जोर-जँगार के, आहूँ आठे मान।।

राँपा गैंती धर चलय,मुँधराहा ले खार।
आवय खन्ती कोड़ के,होवय जब मुँधियार।।

कका डीपरा ला खनय,देवय झउहाँ जोर।
काकी लेगय बोह के,रचय मेड़ के कोर।।

अक्ती हरय किसान के,शुरु दिन खेती साल।
कोल्लर गाड़ी बाँध गा,देबो खातू पाल।।

आरी पुटहा देख ले,बरही जुड़ा लान।
जोेता ला तैं ला लगा,पिँजरी देख बँधान।।

राँपा झउहाँ ला घलो, गाड़ी मा चल जोर।
खाही बइला तान के, भूँसा ला तैं बोर।।

रचनाकार - मनीराम साहू "मितान"
कचलोन(सिमगा)
छत्तीसगढ़

21 comments:

  1. बधाई मनीराम जी।सुग्घर दोहा।

    ReplyDelete
  2. बड़े भइया जी बड़ सुग्घर दोहालरी।

    ReplyDelete
  3. गुरुदेव ला सादर नमन आप सब ला धन्यवाद।

    ReplyDelete
  4. बहुत सुग्घर सृजन सर।सादर बधाई

    ReplyDelete
  5. बहुत सुग्घर सृजन सर।सादर बधाई

    ReplyDelete
  6. बहुत सुग्घर सृजन सर।सादर बधाई

    ReplyDelete
  7. बहुत सुग्घर सृजन सर।सादर बधाई

    ReplyDelete
  8. वाह्ह वाह्ह।बड़ सुग्घर दोहावली। मनी राम साहू जी ला हार्दिक शुभकामना।

    ReplyDelete
  9. बहुत सुग्घर दोहावली,मनीराम भैया। बहुत बहुत बधाई अउ शुभकामना।

    ReplyDelete
  10. बहुत सुग्घर दोहावली,मनीराम भैया। बहुत बहुत बधाई अउ शुभकामना।

    ReplyDelete
  11. गाँव गँवई के सुग्घर चित्रण मितानजी

    ReplyDelete
  12. गाँव गँवई के सुग्घर चित्रण मितानजी

    ReplyDelete
  13. हमर गाँव गवई के रीत परम्परा ल दोहा के माध्यम से बड़ सुघ्घर सिरजन।बधाई हो मनीराम जी।।

    ReplyDelete
  14. हमर गाँव गवई के रीत परम्परा ल दोहा के माध्यम से बड़ सुघ्घर सिरजन।बधाई हो मनीराम जी।।

    ReplyDelete
  15. बहुते सुघ्घर दोहावली हे भाई मनी
    बधाई हो

    ReplyDelete
  16. वाह्ह्ह्ह्ह् मनी भइया सुंदर दोहावली

    ReplyDelete
  17. बहुत सुघ्घर दोहा मनीराम भाई बधाई हो आप ल

    ReplyDelete
  18. बहुत सुघ्घर दोहा मनीराम भाई बधाई हो आप ल

    ReplyDelete
  19. सुघ्घर दोहा भईया जी

    ReplyDelete
  20. बहुत बढ़िया दोहा मनीराम भैया

    ReplyDelete