Tuesday, September 12, 2017

दुर्मिल सवैया छंद - श्रीमती वसंती वर्मा

दुर्मिल सवैया छंद - श्रीमती वसंती वर्मा

(1)
बिहना उठके अब धान लुये बर जावत हे पकलू कमिया ।
पटकू गमछा कुरता करिया पहिरे पनही धरके हसिया ।
धरसा तिर रेंगत जावत वोहर गावत गीत लगे बढ़िया ।
टुकनी चरिहा धर काँवर मा पकलू पहुँचे बहरा सुतिया।

(2)
कचरा झन फेंकव खोल गली घर के मुँहटा अब तो मनसे।
मन के कचरा अब साफ करो हरि नाम जपो सबरी जइसे।
कचरा कस फेंक बुरा अबके कर काम बने जग में अइसे।
जिनगी अनमोल सकेल मया अउ बाँट मया मनुआ सबसे।

रचनाकार - श्रीमती वसंती वर्मा
बिलासपुर, छत्तीसगढ़

22 comments:

  1. वाह्ह्ह्ह्ह् दीदी सुग्घर सवैया

    ReplyDelete
  2. धन्यवाद भैया।

    ReplyDelete
  3. सुघ्घर सवैया छंद ल अपन ब्लाग म स्थान देहे बर निगम जी ल अउ लिखईया वसन्ती वर्मा ल बधाई।

    ReplyDelete
  4. सुघ्घर सवैया छंद ल अपन ब्लाग म स्थान देहे बर निगम जी ल अउ लिखईया वसन्ती वर्मा ल बधाई।

    ReplyDelete
  5. सुघ्घर सवैया छंद ल अपन ब्लाग म स्थान देहे बर निगम जी ल अउ लिखईया वसन्ती वर्मा ल बधाई।

    ReplyDelete
  6. सुघ्घर सवैया छंद ल अपन ब्लाग म स्थान देहे बर निगम जी ल अउ लिखईया वसन्ती वर्मा ल बधाई।

    ReplyDelete
  7. सुग्घर भाव धरे बड़ सुग्घर सवैया हे दीदी।बधाई।

    ReplyDelete
  8. बहुत सुघ्घर सवैया छंद दीदी जी

    ReplyDelete
  9. बहुत सुघ्घर सवैया छंद दीदी जी

    ReplyDelete
  10. बहुत बढ़िया सवैया दीदी !!बधाई।।

    ReplyDelete
  11. बहुत बढ़िया सवैया दीदी !!बधाई।।

    ReplyDelete
  12. जुरमिल सबझन दुर्मिल गावव

    ReplyDelete
  13. जुरमिल सबझन दुर्मिल गावव

    ReplyDelete
  14. बहुत सुग्घर दुर्मिल सवैया छंद के सृजन दीदी।सादर बधाई

    ReplyDelete
  15. बहुत सुग्घर दुर्मिल सवैया छंद के सृजन दीदी।सादर बधाई

    ReplyDelete
  16. वाह्ह वाह्ह बसन्ती वर्मा जी।शानदार दुर्मिल सवैया बर हार्दिक बधाई।

    ReplyDelete
  17. मत्तगयंद मृदुल मदिरा सँग दुर्मिल छंद सिखोये।
    बंदत हौं गुरुवर भैया गो सुंदर कड़ी पिरोये।।
    दीदी वासंती के रचना पढ़के ओकर भाई।
    लामै उंखर जस के डोरी कहिके देत बधाई।।

    वासंती दीदी ल नंगत बधाई उंखर सुंदर रचना बर...
    गुरुवर भैया निगम अउ दीदी ल प्रणाम करत..
    __/\__ __/\__👏👏👏👏

    ReplyDelete
  18. बहुत सुग्घर दुर्मिल सवैया दीदी। बधाई अउ शुभकामना।

    ReplyDelete
  19. बहुत बढ़िया सृजन दीदी

    ReplyDelete
  20. वसंती दीदी बहुँत सुघ्घर

    ReplyDelete
  21. वसंती दीदी बहुँत सुघ्घर

    ReplyDelete