Tuesday, September 19, 2017

चौपई छन्द - श्रीमती रश्मि गुप्ता

चौपई छन्द - श्रीमती रश्मि गुप्ता

डोरी मा सुघ्घर गुंथाय ।
नोनी बाबू के मन भाय ।।
दाई बइठ के गीत गाय ।
नान्हे मचिया गजब सुहाय ।।

गरमी मे अमसरा सुखाय।
मचिया मा जी अबड़ लुभाय ।।
सबके मुँह मा पानी आय ।
नान्हे मचिया गजब सुहाय ।।

अँगना मे दे पानी छीच ।
मचिया ला रख बीचे बीच ।।
बइठ ले सुघ्घर हवा आय ।
नान्हे मचिया गजब सुहाय ।।

जाड़ में मचिया अकड़ जाय।
सोझियाए मा मजा आय।।
देवन कूद के सोझियाय ।
नान्हे मचिया गजब सुहाय ।।

(2)
धक धक करय जीव हर मोर।
कतका सुनव गोठ ला तोर ।।
बादर घपटे हे घनघोर ।
नागर बइला झटकिन जोर ।।

होत बिहनिया चुलहा जोर ।
चाय मढ़ा झन कर तै सोर।।
लीप बहार दुवारी खोर।
सुघ्घर दिखही घर हर मोर।।

दार मढ़ा के कर असनान ।
भोले के तै कर ले ध्यान।।
गोठ सियानी तै हर मान ।
आथे काम गुरु के ज्ञान।।

साग सुधार बहुरिया मोर।
अँधना डबकत हावय तोर।।
बारा बजके भात परोस।
अँचरा ला कनिहा मा खोंस।।

बजके चार बेनी कोर।
आवत होही बेटा मोर।।
लाये हौ मैं भाजी टोर।
सुघ्घर हावय अभी अँजोर।।

करले बहू बने सिंगार।
लाये हावव तोर बर हार।।
संझा होवत दीया बार।
रइही सुख से घर परिवार ।।

रचनाकार - श्रीमती रश्मि गुप्ता
बिलासपुर, छत्तीसगढ़

31 comments:

  1. बहुत सुघ्घर चौपई छंद दीदी।।

    ReplyDelete
  2. अब्बड़ सुघ्घर !!!! ��������

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद राजर्षि जी

      Delete
  3. वाह वाह दीदी,गजब सुघ्घर चओपाई

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद जितेन्द्र भाई

      Delete
  4. बहुत सुग्घर चौपई छंद ,रश्मि दीदी।बधाई अउ शुभकामना।

    ReplyDelete
  5. बहुत सुग्घर छंद हे दीदी वाह्ह्ह्ह्ह् बधाई

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद दुर्गा भाई

      Delete
  6. वाह वाह रश्मि गुप्ता जी। सुग्घर चौपई छन्द।

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद बादल भैया

      Delete
  7. बड़ सुग्घर चौप ई छंद हे दीदी।वाह्ह् वाह्ह्।

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद सुखदेव भाई

      Delete
  8. बहुत सुघ्घर रश्मि बहन

    ReplyDelete
  9. बहुत सुघ्घर रश्मि बहन

    ReplyDelete
  10. दीदी जी बहुँत सुघ्घर

    ReplyDelete
  11. दीदी जी बहुँत सुघ्घर

    ReplyDelete
  12. छंद रश्मि के देख ले, कइसन सुग्हर भाव
    मन मुस्कावत हे मधुर, आशा ढोल बजाव।

    ReplyDelete
  13. छंद रश्मि के देख ले, कइसन सुग्हर भाव
    मन मुस्कावत हे मधुर, आशा ढोल बजाव।

    ReplyDelete
  14. छंद रश्मि के देख ले, कइसन सुग्हर भाव
    मन मुस्कावत हे मधुर, आशा ढोल बजाव।

    ReplyDelete
  15. धन्यवाद शकुन्तला दीदी । आपके आशीर्वाद सदा मिलत राहय दीदी प्रणाम

    ReplyDelete
  16. बहुत सुघ्घर चौपई छंद लिखे हस बहिनी रश्मी बधाई

    ReplyDelete
  17. सुघ्घर चौपई ।बधाई बहिनी।

    ReplyDelete
  18. बहुत सुग्घर चौपई छंद दीदी।सादर बधाई

    ReplyDelete
  19. बहुत सुग्घर चौपई छंद दीदी।सादर बधाई

    ReplyDelete