Thursday, September 21, 2017

रोला छन्द - श्री दिलीप कुमार वर्मा


रोला छन्द - श्री दिलीप कुमार वर्मा

 दारू

राजा होथे रंक,नसा के ये चक्कर मा।
पूँजी सबो सिराय,लगे आगी घर-घर मा।
करथे तन ला ख़ाक,सचरथे सबो बिमारी।
जल्दी आवय काल,बिखरथे लइका नारी।।1।।

दारू तन मा जाय,असर करथे बड़ भारी।
पीने वाला मान,छोड़थे दुनिया दारी।
मनखे होय अचेत,कहे ओ आनी बानी।
थोरिक नही लिहाज,करय अपने मन मानी।।2।।

दारू के ये रंग,चढे जब मनखे ऊपर।
उड़य हवा के संग,समझ हीरो गा सूपर।
सुनय नहीं ओ बात,जात अपने दिखलाथे।
उतरय दारू रंग,लहुट घर रोवत आथे।।3।।

पी ये नइ हच तँय,नसा तोला पी यत हे।
तोरे तन ला खाय,मजा मा ओ जीयत हे।
दारू छोड़व आज,काल जिनगी मिल जाही।
हरियाही तन काल,ख़ुशी हो सुख ला पाही।।4।।

रचनाकार श्री दिलीप कुमार वर्मा
बलौदाबाजार, छत्तीसगढ़

27 comments:

  1. नशा नाश के जड़ हवे।बड़ सुघ्घर रोला छंद दिलीप भैया ।बधाई!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार पात्रे जी।

      Delete
  2. शानदार रोला सर जी

    ReplyDelete
  3. नशा नाश के जड़ हवे।बड़ सुघ्घर रोला छंद दिलीप भैया ।बधाई!!

    ReplyDelete
  4. दारू के नुकसान ला बतावत ,सुग्घर रोला छंद,गुरुदेव दिलीप वर्मा जी।बधाई।

    ReplyDelete
  5. शानदार रोला सर जी

    ReplyDelete
  6. शानदार रोला सर जी

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद साहू जी

      Delete
  7. सिरतोन दारु हमर बर नसकान करइया जिनिस आय,बहुतेच सुग्घर रोला छंद वर्मा जी।

    ReplyDelete
  8. सिरतोन दारु हमर बर नसकान करइया जिनिस आय,बहुतेच सुग्घर रोला छंद वर्मा जी।

    ReplyDelete
  9. बहुत सुग्घर रोला छंद में रचना सर।सादर बधाई

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद ज्ञानु जी।

      Delete
  10. बहुत सुग्घर रोला छंद में रचना सर।सादर बधाई

    ReplyDelete
  11. सुग्घर सीख देवत रोला छन्द सर जी वाह्ह्ह्ह्ह्

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद दुर्गाशंकर जी।

      Delete
  12. वाह वाह दिलीप वर्मा जी। दारु जइसे सामाजिक बुराई ला विषय बना के सुग्घर शिक्षाप्रद रोला के सिरजन करे हव। हार्दिक बधाई ।

    ReplyDelete
  13. धन्यवाद भैया जी।

    ReplyDelete
  14. धन्यवाद भैया जी।

    ReplyDelete
  15. धन्यवाद बादल भैया।

    ReplyDelete
  16. अब्बड़ सुघ्घर रोला सृजन हे दिलीप भाई जी
    बधाई हो

    ReplyDelete
  17. सुघ्घर रोला छंद लिखे हव दिलीप भाई बधाई हो

    ReplyDelete