Thursday, September 14, 2017

मत्तगयंद सवैया - श्री अजय साहू "अमृतांशु"

मत्तगयंद सवैया - श्री अजय साहू "अमृतांशु"

हाँसत खेलत कूदत हे करथे अपने मन के मनमानी।
रोय कभू हँसथे लड़थे घर मा रहिथे अबड़े खिसियानी।
सूरत देखय घूरँय लोगन लागत हे बिटिया जस रानी।
रूप लगे जइसे लछमी घर मा उतरे गुठियावत बानी।

रचनाकार - श्री अजय साहू "अमृतांशु"
भाटापारा, छत्तीसगढ़

36 comments:

  1. बहुत बढ़िया बेटी के ऊपर मत्तगयंद सवैया अजय जी।बधाई।।

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद भाई जी

      Delete
  2. बहुत बढ़िया बेटी के ऊपर मत्तगयंद सवैया अजय जी।बधाई।।

    ReplyDelete
  3. बहुतेच बढ़िया मत्तगयंद सवैया।
    बड़े भैयाजी।

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद भाई

      Delete
    2. धन्यवाद भाईजी

      Delete
    3. धन्यवाद भाईजी

      Delete
  4. वाह्ह्ह्ह्ह् भइया बेटी ऊपर सुग्घर सवैया

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद दुर्गा भाई

      Delete
    2. धन्यवाद दुर्गा भाई

      Delete
    3. बहुत सुग्घर मत्तगयंद सवैया,अजयभैया।बधाई।

      Delete
    4. बहुत सुग्घर मत्तगयंद सवैया,अजयभैया।बधाई।

      Delete
  5. धन्यवाद मोहन भाई

    ReplyDelete
  6. धन्यवाद मोहन भाई

    ReplyDelete
  7. बहुत सुघ्घर मत्तगयंद छंद अजय भाई

    ReplyDelete
  8. वाह अजय भाई सुग्घर मत्तगयंद सवैया।

    ReplyDelete
  9. वाहःहः भाई अजय अति सुघ्घर सृजन करे हव
    बधाई हो

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद आशा दीदी

      Delete
    2. धन्यवाद आशा दीदी

      Delete
  10. माढ़िस हावय प्रेम बने बिटिया बर मंच सजावत खानी।
    जान मयारुक ए बिटिया ससुरे मइके ल निभावत रानी।।
    होवय पूत कपूत भले बिटिया न कभू रिसियावत जानी।
    दाइ ददा बर ओकर मया ल पार न पावत देखत जानी।।

    "बेटी बचाओ बड़ सुख पाव

    सुंदर रचना भाई अम।तांश

    ReplyDelete
    Replies
    1. सुग्घर संदेश सर जी। सादर आभार

      Delete
    2. सुग्घर संदेश सर जी। सादर आभार

      Delete
  11. वाह वाह अमृतांशु जी।सवैया मा सुग्घर भाव के अमरित बरसाये हव।बहुत बहुत बधाई।

    ReplyDelete
  12. आभार बादल भैया सादर ।

    ReplyDelete
  13. बहुत सुघर रचना सर।सादर बधाई

    ReplyDelete
  14. आभार बादल भैया सादर ।

    ReplyDelete
  15. बहुत सुघर रचना सर।सादर बधाई

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद ज्ञानू भाई

      Delete
    2. धन्यवाद ज्ञानू भाई

      Delete
  16. धन्यवाद ज्ञानू भाई

    ReplyDelete
  17. बहुत सुघ्घर सर जी

    ReplyDelete
  18. वाह्ह् वाह्ह "अमृताशु"सर जी बड़ सुग्घर मत्तगयंद सवैय्या।

    ReplyDelete