Saturday, September 16, 2017

चौपाई छंद श्री कन्हैया साहू "अमित"

चौपाई  छंद श्री कन्हैया साहू "अमित"

पहिरे सजनी सुग्घर गहना।
बइठे जोहत अपने सजना।।
घर के अँगना द्वार मुँहाटी।
कोरे गाँथे पारे पाटी।।

बेनी बाँधे लाली टोपा।
खोंचे कीलिप डारे खोपा।।
बक्कल फीता फुँदरा फुँदरी।
फूलकुँवर फुलबासन सुँदरी।।

कुमकुम बिन्दी सेन्दुर टिकली।
माँथ माँगमोती हे असली।।
रगरग दमदम दमकै माथा।
सुनव अमित ले गहना गाथा।।

लौंग नाक नग नथली मोती।
फुली खुँटी दीया सुरहोती।।
कान खींनवा लटकन तरकी।
बारी बाला झुमका लुरकी।।

गर मा चैन संकरी पुतरी।
गठुला गजरा गूँथे सुतरी।।
सिरतो सूँता सूर्रा सुतिया।
भुलकापइसा रेशम रुपिया।

बहुँटा पहुँची चूरी ककनी।
बाहाँ मरुआ पहिरे सजनी।।
कङा नागमोरी हा अँइठे।
सज धज के अब गोरी बइठे।।

कुचीटंगनी रेसम करधन।
ए सब हावय कनिहा लटकन।।
लाल पोलखा लुगरा साया।
गहना गुरिया फभथे काया।।

सोन मुंदरी चाँदी छल्ला।
पहिर अंगरी झन कर हल्ला।।
छल्ला लोहा तांबा पीतल।
सजथे तन होथे मन सीतल।।

पाँव पैरपट्टी अउ पैरी।
बिन जोंही लागे सब बैरी।।
साँटी टोंड़ा बिछिया लच्छा।
गोड़ सवाँगा सबले अच्छा।।

लाल आलता माहुर लाली।
हाँथ मेंहदी मा खुसहाली।।
लाज असल हे नारी गहना।
सिरतो एखर का हे कहना।।

रचनाकार - श्री कन्हैया साहू "अमित"
भाटापारा, छत्तीसगढ़

23 comments:

  1. वाह वाह अमित भैया,छत्तीसगढ़ी नारी गहना के चौपाई छंद म सुघ्घर वर्णन।।बहुत बढ़िया।बधाई।।

    ReplyDelete
  2. वाह वाह अमित भैया,छत्तीसगढ़ी नारी गहना के चौपाई छंद म सुघ्घर वर्णन।।बहुत बढ़िया।बधाई।।

    ReplyDelete
  3. वाहःहः अमित भाई सुघ्घर चौपाई छंद
    बधाई हो

    ReplyDelete
  4. बहुत सुग्घर चौपाई छंद सर।सादर बधाई

    ReplyDelete
  5. बहुत सुग्घर चौपाई छंद सर।सादर बधाई

    ReplyDelete
  6. सुग्घर चौपाई अमित भाई वाह!

    ReplyDelete
  7. वाह वाह साहू जी,गजब

    ReplyDelete
  8. वाह्ह सुन्दर नखशिख श्रृँगार वर्णन।सुग्घर चौपाई साहू सर।

    ReplyDelete
  9. सुग्घर वर्णन अमित जी

    ReplyDelete
  10. सुग्घर वर्णन अमित जी

    ReplyDelete
  11. नारी सिंगार के बहुत सुघ्घर बरनन ।
    बहुत बहुत बधाई

    ReplyDelete
    Replies
    1. छन्द खजाना मा आपके स्वागत हे महेंद्र जी

      Delete
  12. बहुत सुन्दर अमित जी के रचना ,ये चार लाईन में नारी मन के सजे संवरें के सबो जीनिस समा गेहे...

    ReplyDelete
  13. गहना गूँठा अब झन पहिरव, पढ़ लिख के जीवन ला गढ़ लव।

    ReplyDelete
  14. गहना गूँठा अब झन पहिरव, पढ़ लिख के जीवन ला गढ़ लव।

    ReplyDelete
  15. बहुत सुग्घर चौपाई छंद हे।अमित भैया जी।बधाई।

    ReplyDelete
  16. बहुत सुग्घर चौपाई छंद हे।अमित भैया जी।बधाई।

    ReplyDelete
  17. सुग्घर विधान अउ भावपूर्ण चौपाई सृजन बर अमित जी ला बहुत बहुत शुभकामना।

    ReplyDelete
  18. वाह्ह्ह्ह्ह् भइया श्रृंगार के चौपाई ला सुग्घर श्रृंगार करे हावव

    ReplyDelete
  19. गुरुदेव संग आप सबो दीदी भैया मन के पंदोली दे बर अंतस ले अभार।

    ReplyDelete
  20. गुरुदेव संग आप सबै दीदी भैया मन ला पंदोली दे बर अंतस ले अभार।

    ReplyDelete
  21. बड़ सुग्घर छंद कन्हैया जी।बधाई हो।

    ReplyDelete
  22. गहना के गाये हव महिमा।
    बाढ़ै माई मन के गरिमा।।
    सुंदर सजिस छंद चौपाई।
    रचना बड़ सुग्घर हे भाई।।

    गाड़ा गाड़ा बधाई भाई कन्हैया "अमित" ला...

    ReplyDelete